भाजपा को बंगाल में बड़ा शून्य मिलेगा : ममता


बालुरघाट।


दिल्ली की सत्ता पर कब्जे को लेकर छिड़े सियासी संग्राम में जारी कड़वी बयानबाजी के बीच शुक्रवार को तब थोड़ी 'मिठास' आ गई जब तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ममता बनर्जी ने कहा कि पश्चिम बंगाल में भाजपा को एक “बड़ा रसोगुल्ला”मिलेगा। ममता के बयान को लेकर विपक्ष को किसी मुगालते में नहीं रहना चाहिए। दरअसल ममता यहां भाजपा के लिये बंगाल की प्रसिद्ध मिठाई का जिक्र जरूर कर रही हैं लेकिन रसोगुल्ला का इस्तेमाल वह लोकसभा चुनावों में भाजपा को मिलने वाली 'शून्य' सीटों के संदर्भ में कर रही हैं।


उत्तरी बंगाल के दक्षिणी दिनाजपुर जिले में दो चुनावी रैलियों को संबोधित करते हुए उन्होंने लोकप्रिय हिंदी कहावत का जिक्र करते हुए कहा, “दिल्ली का लड्डू-जो खाया वो पछताया, उन्हें इस बार बंगाल में बड़ा शून्य मिलेगा।” बनर्जी ने कहा कि प्रधानमंत्री का बंगाल में मतदाताओं के दोनों हाथों में 'लड्डू' देने का वादा कभी पूरा नहीं होगा। बंगाल में 2016 के विधानसभा चुनावों से पहले प्रधानमंत्री मोदी ने एक जनसभा में कहा था कि अगर लोग राज्य में भाजपा को सत्ता में लेकर आते हैं तो उनके दोनों हाथों में “लड्डू” होंगे। केंद्र में राजग सरकार होगी तो दूसरी तरफ राज्य में।


बंगाल की 42 संसदीय सीटों में से कम से कम आधी सीटें जीतने के भाजपा के लक्ष्य पर निशाना साधते हुए बनर्जी ने कहा, “2014 में उन्हें दो सीटें मिलीं, इस बार यहां उन्हें रसोगुल्ला (शून्य) मिलेगा।” हिंदी भाषी राज्यों में जिस तरह परीक्षा में अनुत्तीर्ण होने वालों के लिये जिस तरह “लड्डू” मिलने की बात कही जाती है उसी तरह पश्चिम बंगाल में “रसोगुल्ला” मिलने की बात कही जाती है। आम चुनावों में भाजपा को 100 से ज्यादा सीटें नहीं मिलने की बात करते हुए तृणमूल अध्यक्ष ने दावा किया कि आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु और केरल में वो एक भी सीट नहीं जीतेगी। उन्होंने कहा, “उत्तर प्रदेश में उनके पास 73 सीटें थीं, मुझे शक है कि क्या वे (भाजपा) इस बार करीब 13 सीट भी जीत पाएगी।” उन्होंने कहा कि भगवा पार्टी उत्तर पूर्वी क्षेत्र और ओडिशा में एक भी सीट नहीं जीत पाएगी।


केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली के बंगाल में चुनाव चौंकाने वाले होंगे पर तीखी टिप्पणी करते हुए तृणमूल नेता ने कहा, “मैं भी कहती हूं कि शून्य मिलने से उनके लिये भी चौंकाने वाली बात होगी।”बनर्जी ने दावा किया कि अगर नरेंद्र मोदी सत्ता में वापस आए तो लोग अपनी अभिव्यक्ति की आजादी खो देंगे। ममता ने बंगाल में तैनात केंद्रीय बलों से अनुरोध किया कि वे राज्य पुलिस के साथ मिलकर काम करें। उन्होंने साथ ही कहा कि प्रशासन यहां उनके (केंद्रीय बलों के) निष्पक्ष रूप से काम करने में मदद के लिये है।


 


Popular posts from this blog

भारत विदेश नीति के कारण वैश्विक शक्ति बनेगा।

स्वरोजगारपरक योजनाओं के अंतर्गत ऑनलाइन ऋण वितरण मेले का किया गया आयोजन

अपनी दाढ़ी का रखें ख्याल, दिखेंगे बेहद हैंडसम