बच्चों को किया गया सम्मानित


 राजेन्द्रनगर के महाकाल मंदिर में बच्चों को किया गया पुरस्कृत


लखनऊ।


गीता परिवार की ओर से चल रहे सात दिवसीय अर्जुन भव संस्कार पथ शिविर का राजेन्द्रनगर के महाकाल मंदिर में मंगलवार को समापन हुआ। राजेन्द्र नगर के महाकाल मंदिर में रंग भरो प्रतियोगिता में अनन्या गुप्ता, महाभारत के पात्रों के नाम में मुकेश गौतम, आर्ट क्राफ्ट में तान्या राजपूत, अर्जुन साधना में कृष्ण, भगवद्गीता श्लोक स्पर्धा मंे सौम्या चौरसिया, सर्वश्रेष्ठ शिविरार्थी में शिवांगी पाण्डेय ने बाजी मारी। इस अवसर पर मुख्य अतिथियों में मनोज पाठक महाकाल मंदिर समिति के सदस्य, अनुराग पाण्डेय, महासचिव गीता परिवार मौजूद थे। पीयूष जयसवाल ने बताया कि समापन अवसर पर मुख्य अतिथियों के समक्ष के आस्था श्रीवास्तव ने सामूहिक नृत्य, जान्हवीराज साहू ने लाठी-काठी, मानवीराज साहू, नेहा ने जिमास्टिक, आदित्य, कृष्णा ने सेल्फ डिफेंस, नैन्सी मिश्रा ने रचनात्मक कार्यशाला, कविता वर्मा ने अखबार से फैंसी ड्रेस प्रतिस्पर्धा का आयोजन किया। बच्चों की मनमोहक प्रस्तुति देखकर लोगों को तालियां बजाने पर मजबूर होना पड़ा। आज सभी शिविरों में परमपूज्य गुरुस्वामी सत्यमित्रानंद गिरि जी महाराज के महाप्रयाण पर दो मिनट का मौन रखकर श्रद्धांजलि दी गई। वहीं तीन दिवसीय शिविरों का भी समापन हुआ जिनमें पानी टंकी पार्क दुबग्गा में योग सोपान में वीरू, गीता श्लोक में सरस्वती, सर्वश्रेष्ठ शिविरार्थी में तबस्सुम, एसएन मिश्रा पार्क ऐशबाग में गृहकार्य में रिद्धिमा शुक्ला, श्रीमद्भगवत गीता श्लोक स्पर्धा में मुस्कान, सर्वश्रेष्ठ शिविरार्थी में शौर्य, शहीद भगत सिंह पार्क अलीगंज में गीता श्लोक में गुनगुन, आदर्श शिविरार्थी में नित्या, मधुराष्टकम् में शौर्य शर्मा, रिसालदार पार्क लालकुंआ में भगवद्गीता में अनुराग वर्मा, ध्रुव साधना में महेन्द्र मौर्या, आदर्श शिविरार्थी में लकी साहू प्रतिस्पर्धा में विजयी रहे। समापन अवसर पर विजयी बच्चों को पुरस्कृत किया गया। इस मौके पर मुख्य अतिथियों में सावित्री देवी, तेजनारायण पांडेय, शिवाजीनगर के कार्यवाह संघ, सुधीर तिवारी, कोषाध्यक्ष गीता परिवार, कमल अग्रवाल, वरिष्ठ कार्यकर्ता गीता परिवार, विनोद कृष्ण सिंघल, पूर्व पार्षद, अशोक जायसवाल, प्रदेश अध्यक्ष झुग्गी झोपड़ी प्रकोष्ठ, सुरेश रस्तोगी, सेवा प्रमुख भाजपा शिवनगर, ममता रानी मौजूद थी। शिविर प्रमुखों में कविता वर्मा, इंदु तिवारी, संस्कार शुक्ला, सोनालिका दीक्षित, अंजलि द्विवेदी थी। सत्रों का संचालन दृष्टि, वैष्णवी, दीपिका मिश्रा, अनुष्का मौर्य, कशिश, अश्वनी, कविता वर्मा, सुविज्ञ तिवारी, उद्देश्य बाजपेयी ने किया। अनुराग पाण्डेय ने बताया कि गीता परिवार 8 से 14 साल के बच्चों को भगवद्गीता श्लोकों को कंठस्थ करने से लेकर अनेक स्त्रोत, देशभक्ति गीत, प्रार्थनाएं आदि बच्चे सहज ही खेल खेल में सिखाया जाता हैं और अत्यंत मनोरंजक व रूचिकर माध्यमों से बालकांे के मन में श्रेष्ठ व भारतीय संस्कृति से ओतप्रोत जीवन जीने की प्रेरणा भी दी जाती है।


 


Popular posts from this blog

स्वरोजगारपरक योजनाओं के अंतर्गत ऑनलाइन ऋण वितरण मेले का किया गया आयोजन

भारत विदेश नीति के कारण वैश्विक शक्ति बनेगा।

बांसडीह में जाति प्रमाण पत्र बनाने को लेकर दर्जनों लोगों ने एसडीएम को सौपा ज्ञापन