करंट से मंडी समिति परिसर में गाय की मौत

बिंदकी फतेहपुर।


मंडी समिति परिसर के अंदर करंट से एक गाय की मौत हो गई। गाय के तड़प-तड़प कर मौत होने के बाद हड़कंप मच गया। करंट के कारण मंडी समिति के दोनों गेट में ताला बंद कर दिया गया। घंटों लोग बाहर खड़े रहे। विद्युत आपूर्ति बंद कराने के बाद ताला खोला गया। लोगों के बीच चर्चा है कि इलेक्ट्रॉनिक कांटा मशीन के बड़े लोहे के तराजू में करंट आने से गाय चपेट में आ गई और मौत हो गई। जबकि कुछ लोगों का कहना है कि बिजली के पोल से पानी के द्वारा गड्ढे में करंट आया और मौत हो गई। गाय की करंट से तो मौत हो गई लेकिन स्पष्ट कारण नहीं समझ में आया।
जानकारी के अनुसार गुरुवार सुबह करीब 10 बजे कुंवरपुर रोड मंडी समिति के पास रहने वाले नगरपालिका कर्मचारी अनिल कुमार यादव की गाय मंडी समिति के अंदर चली गई। जैसे ही गाय इलेक्ट्रॉनिक कांटा के लोहे के बड़े तराजू के ऊपर से निकली वैसे ही गाय तड़प तड़प कर आगे गिर पड़ी और मर गई। गाय की मौत होते ही हड़कंप मच गया। लोग हिम्मत नहीं जुटा सके कि आगे बढ़े निश्चित रूप से कोई भी व्यक्ति उस समय तराजू में होता तो उसकी भी मौत हो चुकी होती और बड़ा हादसा हो जाता। यह देखते ही मंडी समिति के कर्मचारियों के हाथ पांव फूल गए किसी तरह प्रयास कर मंडी के दोनों गेटों को बंद कर दिया गया। जिसमें ताला लगा दिया गया। 1 घंटे से अधिक समय तक लोग मंडी समिति गेट के बाहर खड़े रहे। ना तो कोई अंदर नहीं जा रहा था ना कोई बाहर निकल रहा था। करीब 1 घंटे बाद जब विद्युत विभाग के अधिकारियों को सूचना देकर बिजली काटी गई। इसके बाद लोग पास में गए। तब तक गाय मृत हो चुकी थी। हालांकि मंडी समिति के कर्मचारी इस बात को मानने को तैयार नहीं थे। इलेक्ट्रॉनिक कांटा मशीन के बड़े लोहे के तराजू में करंट आने से मौत हुई है लेकिन मौजूद लोगों ने स्पष्ट रूप से कहा कि गाय जैसे ही लोहे के बड़े तराजू से निकली है वैसे तड़प कर मर गई। इस मामले के बाद से हड़कंप मचा रहा काफी देर तक पशुपालक अनिल यादव और मंडी समिति कर्मचारियों के बीच बहस होती रही।


 


Popular posts from this blog

स्वरोजगारपरक योजनाओं के अंतर्गत ऑनलाइन ऋण वितरण मेले का किया गया आयोजन

भारत विदेश नीति के कारण वैश्विक शक्ति बनेगा।

बांसडीह में जाति प्रमाण पत्र बनाने को लेकर दर्जनों लोगों ने एसडीएम को सौपा ज्ञापन