विधिक माप विज्ञान विभाग ने 14.90 करोड़ रूपये से अधिक का जमा कराया शमन

विधिक माप विज्ञान विभाग की तेरह सेवायें पूरी तरह ऑनलाइन

लखनऊ।


विधिक माप विज्ञान विभाग द्वारा माह जून, 2019 तक कुल 161620 व्यापारियों का निरीक्षण करते हुए विभिन्न अनियमितताओं के कुल 10228 मामले अभियोजित किये गये। अभियोजित किये गये मामलों में से 6906 मामलों का विभागीय शमन द्वारा निस्तारण कराते हुए 3.64 करोड़ रूपये से अधिक की धनराशि शमन शुल्क के रूप में वसूल की गयी तथा व्यापारियों के माप तौल उपकरणों का सत्यापन करते हुए 9.55 करोड़ रूपये से अधिक की धनराशि सत्यापन मुद्रांकन शुल्क व अन्य मदों में रू0 1.70 करोड़ रूपये से अधिक की धनराशि जमा करायी गयी। इस प्रकार से माह जून 2019 तक कुल रू0 14,90,90,605 जमा कराया गया। यह जानकारी नियंत्रक, विधिक माप विज्ञान सुनील कुमार वर्मा ने दी।
नियंत्रक ने बताया कि विभागों के सुदृढ़ीकरण की महत्वाकांक्षी योजना के तहत विधिक माप विज्ञान विभाग की तेरह सेवाओं को पूर्णतः ऑनलाइन करते हुए सेवाओं के निष्पादन में पूर्ण पारदर्शिता लायी गयी है।  ''पायलेट बेसिस'' पर यद्यपि अभी केवल नौ जिलों में इन सेवाओं को ऑनलाइन किया गया है, परन्तु जल्दी ही इन ऑनलाइन सेवाओं का लाभ पूरे उत्तर प्रदेश की जनता को मिलने लगेगा।
वर्मा ने बताया कि सरकार की नीतियों का अनुपालन करते हुए विधिक माप विज्ञान विभाग में वरिष्ठ निरीक्षकों तथा निरीक्षकों के स्थानान्तरण ऑनलाइन प्रक्रिया द्वारा किये गये हैं, जो कि पूर्णतः निष्पक्ष एवं पारदर्शी हैं।  


Popular posts from this blog

स्वरोजगारपरक योजनाओं के अंतर्गत ऑनलाइन ऋण वितरण मेले का किया गया आयोजन

भारत विदेश नीति के कारण वैश्विक शक्ति बनेगा।

बांसडीह में जाति प्रमाण पत्र बनाने को लेकर दर्जनों लोगों ने एसडीएम को सौपा ज्ञापन