कोषागार कर्मचारियों ने खोला मोर्चा, करेंगे कार्य बहिष्कार

सचिवालय की तरह वेतन और प्रोन्नति बहाली की मांग


लखनऊ।


उ.प्र. कोषागार कर्मचारी संघ ने विभाग में प्रोन्नति बहाली और सचिवालय की तरह वेतन भत्ते की मांग को लेकर आन्दोलन छेड़ने का निर्णय ले लिया है। प्रदेश भर के शत प्रतिशत कोषागार कार्मिकों की उपस्थिति में संघ ने सर्वसम्मति से यह निर्णय लिया है। 
प्रदेश अध्यक्ष अखिलेश अग्निहोत्री की अध्यक्षता एवं प्रदेश महामंत्री हेमन्त श्रीवास्तव के संचालन में सम्पन्न बैठक में निर्णय लिया गया कि आन्दोलन के क्रम में 11 सितम्बर से 15 सितम्बर तक काली पट्टी बॉधकर विरोध एवं दो घंटे कार्य बहिष्कार, गेट मीटिंग की जाएगी। 16 सितम्बर को मुख्यालय पर प्रान्तीय धरना निदेशक को ज्ञापन दिया जाएगा। 17 से लेकर सितम्बर तक तीन दिवसीय कार्य बहिष्कार करने के उपरान्त 20 सितम्बर को प्रान्तीय बैठक में अगले आन्दोलन की घोषणा की जाएगभ्। 
बैठक के बार में वरिष्ठ उपाध्यक्ष नजमी कमाल ने बताया कि पदोन्नति की व्यवस्था को समाप्त करने सम्बंधी शासन के आदेश की निन्दा की गई। बैठक में सचिवालय कैडर की तरह वेतन एवं भत्ते की मांग के साथ पदोन्नति बहाली मुख्य रूप से शामिल रही। बैठक में कोशागार संवर्ग में लेखाकार एवं सहायक लेखाकार के मध्य लागू 80ः20 की व्यवस्था मनमाने ढंग से 01 जनवरी 1986 से समाप्त करते हुए उपरोक्त व्यवस्था के अन्तर्गत प्रोन्नति पा चुके लेखाकारों जिनमें से अनेकों अन्य उच्चतर पदों क्रमषः सहायक कोषाधिकारी तदोपरान्त वित्त एवं लेखाधिकारी के पदों पर कार्यरत हैं को 33 वर्श पूर्व से पदावनत करने के आदेश 31 जुलाई 2019 जारी करने की घोर निन्दा की गयी। 
संघ के अध्यक्ष अखिलेष अग्निहोत्री ने बताया कि अन्य लेखा संवर्गो की भाति कोशागार संवर्ग को भी समता समिति 1989 की संस्तुतियों के आधार पर 80 प्रतिशत पदों को लेखाकार के रूप में प्रोन्नत किया गया था। श्रेष्ठता के आधार पर न्यायालय द्वारा कोशागार लेखा संवर्ग को सचिवालय के लेखा संवर्ग की समकक्षता प्रदान किये जाने से नाराज होकर शासन ने 33 वर्श पुरानी उपरोक्त व्यवस्था को समाप्त कर दिया। जिसके कारण पूरे प्रदेष के 1000 कोशागार कर्मचारी पदावनत कर दिये जायेंगे, जो किसी भी दषा में न्याय सम्मत नहीं है। 
संघ के महामंत्री हेमन्त श्रीवास्तव ने बताया कि शासन ने एक ओर तो 80ः20 की सुविधा पाकर पदोन्न्त होने वाले 26 सहायक कोशाधिकारियों को  30 जुलाई को लेखाधिकारी के पद पर पदोन्नति दी किन्तु अगले ही दिन उन्हे पदावनत करने हेतु आदेष जारी कर दिये जो कि स्वयं विरोधाभाशी है। 16 सितम्बर पूरे प्रदेश से लगभग 1000 कोषागार कर्मचारी राजधानी में इकठ्ठा होगा। 
बैठक को प्रदेश महामंत्री हेमन्त श्रीवास्तव, उपाध्यक्ष धर्मेन्द्र कुमार, सम्प्रेक्षक नितिन शंकर शुक्ला मनोज श्रीवास्तव, सत्येन्द्र सिंह, अजय शर्मा, अनिल सिंह, राजेन्द्र मिश्रा, अश्वनी श्रीवास्तव, कन्हैलाल गोण्डा, अरविन्द प्रताप सिंह इटावा, आशीष पाण्डेय अम्बेडकरनगर और बैठक के संयोजक लखनऊ के धर्मेन्द्र ने सम्बोधित किया।


 


Popular posts from this blog

स्वरोजगारपरक योजनाओं के अंतर्गत ऑनलाइन ऋण वितरण मेले का किया गया आयोजन

भारत विदेश नीति के कारण वैश्विक शक्ति बनेगा।

बांसडीह में जाति प्रमाण पत्र बनाने को लेकर दर्जनों लोगों ने एसडीएम को सौपा ज्ञापन