निराश्रित/ बेसहारा गोवंश सहभागिता योजना

उन्नाव 


जिलाधिकारी श्री देवेन्द्र कुमार पाण्डेय ने बताया कि जनपद उन्नाव में निराश्रित/ बेसहारा गोवंश को इच्छुक किसानों/ पशुपालकों/ अन्य व्यक्तियों को सुपुर्द किए जाने हेतु माननीय मुख्यमंत्री द्वारा निराश्रित/ बेसहारा गोवंश सहभागिता योजना चलाई जा रही है। उन्होंने प्रमुख सचिव बी0एल0 मीणा के शासनादेश के क्रम में बताया कि उत्तर प्रदेश पशुधन संख्या के दृष्टिकोण से देश का सबसे बड़ा प्रदेश है, जहां पर 2012 की पशुगणना के अनुसार 205.66 लाख गोवंश हैं। इसके अलावा प्रदेश में 10 से 12 लाख निराश्रित/ बेसहारा गोवंश होने का अनुमान है। विभाग द्वारा निराश्रित एवं बेसहारा गोवंश के संरक्षण एवं भरण पोषण हेतु स्थाई/ अस्थाई गोवंश आश्रय स्थल, बृहद गो संरक्षण केंद्र/ गोवंश वन्य विहार (बुंदेलखंड क्षेत्र में)/ पशु आश्रय गृह स्थापित एवं संचालित कर उनका संरक्षण एवं भरण पोषण किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि प्रदेश में 4033 अस्थायी गोवंश आश्रय स्थल, 150 वृहद गो संरक्षण केन्द्र, कान्हा गौशाला 130 एवं कांजी हाउस 393 में 2,74,691 गोवंश संरक्षित हैं।
जिलाधिकारी ने बताया कि निराश्रित/ बेसहारा गोवंश को पूर्ण रूप से संरक्षण भरण पोषण प्रदान किया जाना सरकार की प्राथमिकताओं में एक है। इसको दृष्टिगत रखते हुए जिलाधिकारी ने सम्बन्धित को निर्देशित करते हुये कहा कि गोवंश आश्रय स्थलों में संरक्षित निराश्रित/ बेसहारा गोवंश को स्थापित प्रक्रिया द्वारा इच्छुक कृषकों/ पशु पालकों/ अन्य व्यक्तियों को सुपुर्द करते हुए इस योजना के क्रियान्वयन में जन सहभागिता बढ़ाई जाए।   जिलाधिकारी ने बताया कि जनपद में ऐसे इच्छुक कृषकों/ पशुपालकों /अन्य व्यक्यिों को चिन्हित कराएंगे जो निराश्रित गोवंश को पालने हेतु तैयार हैं। ऐसे इच्छुक कृषकों /पशुपालकों /अन्य व्यक्तियों को जिलाधिकारी द्वारा रुपए 30 मात्र प्रति गोवंश/ प्रतिदिन की दर से भरण पोषण हेतु धनराशि संबंधित कृषक/ पशुपालक / अन्य व्यक्ति के बैंक खाते में प्रतिमाह डी0बी0टी0 प्रक्रिया द्वारा हस्तांतरित की जाएगी।  उन्होंने बताया कि निराश्रित/ बेसहारा गोवंश (जिनमें ईयर टैग अनिवार्य होगा) को इच्छुक कृषकों/ पशु पालकों/ अन्य व्यक्तियों को सरकार/ जिला प्रशासन द्वारा स्थापित एवं संचालित अस्थायी/स्थायी केंद्रों के माध्यम से सुपुर्द किया जाएगा। 


Popular posts from this blog

स्वरोजगारपरक योजनाओं के अंतर्गत ऑनलाइन ऋण वितरण मेले का किया गया आयोजन

भारत विदेश नीति के कारण वैश्विक शक्ति बनेगा।

बांसडीह में जाति प्रमाण पत्र बनाने को लेकर दर्जनों लोगों ने एसडीएम को सौपा ज्ञापन