सुषमा के तुरन्त बाद जेटली के गुजर जाने से आहत है मन : राम नाईक

लखनऊ।


पूर्व केन्द्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली के निधन पर उत्तर प्रदेश के पूर्व राज्यपाल राम नाईक ने शोक व्यक्त किया है। उन्होंने कहा कि सुषमा स्वराज के तुरन्त बाद अब अरूण जेटली के भी गुजर जाने से मन आहत है।
नाईक ने कहा है कि भाजपा की बौद्धिक प्रणाली तय करने वालों में जेटली महत्वपूर्ण थे। लालकृष्ण आडवाणी जब भाजपा अध्यक्ष थे तब बतौर महामंत्री पार्टी के संघटन में श्री जेटली ने जिस निष्ठां से कर्तव्य का वहन किया उतनी ही कर्मठता से उन्होंने स्व. अटल बिहारी वाजपेयी की मंत्रि परिषद में अलग-अलग विभागों के मंत्री पद की जिम्मेदारी निभायी। वे सही कहा जाये तो अटलजी के अष्टप्रधानों में से एक थे। 
नाईक ने कहा कि मोदी सरकार में वित्त मंत्री के नाते उन्होंने कई चुनौतियों का जैसे की जीएसटी, नोटा बंदी का सफलता से सामना किया। देश को प्रगतीपथ पर ले जाने में उनका बड़ा योगदान रहा। उन्होंने कहा कि स्व. अरूण जेटली को मेरी विनम्र श्रद्धांजलि। जेटली परिवार को मेरी सहसंवेदनाएं। 


 


Popular posts from this blog

स्वरोजगारपरक योजनाओं के अंतर्गत ऑनलाइन ऋण वितरण मेले का किया गया आयोजन

भारत विदेश नीति के कारण वैश्विक शक्ति बनेगा।

बांसडीह में जाति प्रमाण पत्र बनाने को लेकर दर्जनों लोगों ने एसडीएम को सौपा ज्ञापन