दूधिया को बस ने रौंदा, मौके पर मौत

परिजनों और ग्रामीणों ने सडक पर रखा शव लगाया जाम
अधिकारियों के आश्वासन के बाद हुआ आक्रोश शांत


सासनी-हाथरस।


आगरा अलीगढ रोड स्थित के एल जैन इंटर क्रीडांगन के निकट एक स्कूली बस ने सासनी में दूध बांटने जा रहे युवक को रौंद दिया। जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई। आसपास के लोगों को इसकी जानकारी हुई तो घटनास्थल पर भीड़ जमा हो गई। दोनों ओर सड़क जाम की स्थिति पैदा हो गई। मृतक के पिता तथा परिजन स्कूली बस के चालक को मौके पर बुलाने की मांग करने लगे, और इस मांग को लेकर  काफी देर तक हंगामा होता रहा, लेकिन सीओ प्रभारी निरीक्षक ने समझाकर कार्रवाई का आश्वासन देकर लोगों को शांत कर दिया।
 शनिवार को गांव सठिया निवासी मुरारीलाल मेहनत मजदूरी कर अपना और परिवार का भरण पोषण करता है, उसके दो पुत्र और तीन पुत्रियां है। मुरारीलाल का अठारह वर्षीय पुत्र लोकेश हीरो बाइक संख्या- यपू 86-जेड- 8313 द्वारा सासनी में दूध बांटने जा रहा था। बताते हैं कि जैसे ही वह के एल जैन इंटर कालेज के निकट आसा तो बस ने ओवरटेक करते हुए उसे टक्कर मार दी, जिससे मौके पर ही लोकेश की बस के पीछे के पहिए के नीचे दबकर दर्दनाक मौत हो गई। प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार बस के नीचे जैसे ही लोकश आया तो बस करीब डेढ फीट ऊंची उछल गई। बस चालक बस को लेकर तेजी से फरार हो गया। घटना की जानकारी होते ही राहगीरों और आस-पास के दुकानादों की भीड जुट गई। इसकी जानकारी जब परिजनों को मिली तो वे मौके पर पहुंच गए। बस चालक की लापरवाही को लेकर परिजन व राहगीरों ने शव को उठने नहीं दिया। ग्रामीणों ने की मांग कि स्कूली बस को या चालक को मौके पर बुलाने की मांग करने लगे, मगर हंगामा बढने पर एसडीएम हरी सिंह यादव व सीओ रामशब्द यादव एसएचओ पहलवान सिह टीम के साथ मौके पर पहुंच गए, उन्होंने लोगों को शांत कर दिया। इसके बाद ही लोगों ने शव को बीच सडक से उठाकर एक ओर किया। पुलिस ने मृतक के शव का पंचनामा भर पोस्टमार्टम के लिए भिजवाया। उधर मृतक के पिता ने अज्ञात बस और उसके अज्ञात चालक के खिलाफ घटना की तहरीर दी है। पुलिस ने सीसीटीवी पुटेज के आधार पर बस को तलाशने अलीगढ गई है।


यातायात मानक नहीं हो रहे पूरे
वैसे भी सरकार द्वारा यातायात पर काफी ध्यान दिया जा रहा है मगर लोग सरकारी नियमों तथा उसकी सलाह को ताक पर रखकर उन सलाहों का मखौल उडाने में लगे हुए है। के एल जैन इंटर कालेज के सामने हुई दुघर्टना में युवक ने यदि यातायात नियमों का पालन किया होता तो शायद हादसा होने से बच सकता था। वहीं बस चालक भी जल्दवाजी नहीं करता तो लोकेश की जान नहीं जाती।


मुफलिसी में जिंदगी जी रहा मुरारी
मुरारी के दो पुत्र और तीन पुत्रियां है, मुरारी का बडा पुत्र लोकश मुरारी के साथ मेहनत मजदूरी कर परिवार के भरण पोषण में हाथ बंटाता था। मगर आज उसकी मौत होने के बाद मुरारी का एक हाथ टूट गया। लोकेश की मौत के बाद परिजनों में करूण क्रंदन मच गया और गांव में मातम पसरा हुआ है, परिजनों ने पोस्टमार्टम के बाद मृतक के शव का अंतिम संस्कार कर दिया।


 


Popular posts from this blog

स्वरोजगारपरक योजनाओं के अंतर्गत ऑनलाइन ऋण वितरण मेले का किया गया आयोजन

भारत विदेश नीति के कारण वैश्विक शक्ति बनेगा।

बांसडीह में जाति प्रमाण पत्र बनाने को लेकर दर्जनों लोगों ने एसडीएम को सौपा ज्ञापन