राहत सामग्री बांटते दीवार सहित गिरे डीएम

वाराणसी।


जनपद के जिलाधिकारी सुरेंद्र सिंह गुरुवार को बाढ़ पीड़ितों को राहत सामग्री बांटने के दौरान दीवार के साथ गिर गए। इस घटना का वीडियो वायरल हो गया है। इस दौरान हालांकि किसी के हताहत होने की पुष्टि नहीं की गई है। वाराणसी के कंट्रोल रूम के अधिकारियों ने बताया कि वाराणसी के कोनिया में जिलाधिकारी सुरेंद्र सिंह बाढ़ पीड़ितों को राहत सामग्री देने के लिए गए थे, वहीं राहत सामग्री बांटने के दौरान दीवार गिर गई। उनके साथ ही एनडीआरएफ के दो जवानों पर भी दीवार गिरी है। डीएम दीवार पर बैठकर पीड़ितों को राहत सामग्री बांट रहे थे। दीवार गिरने के साथ ही जिलाधिकारी भी गिर गए। उन्होंने बताया कि इस घटना में किसी को चोट नहीं आई है, क्योंकि इसके बाद डीएम ने ढाब इलाके का निरीक्षण किया। इसके बाद वह अपने आवास पर पहुंचे। हां, उनके आवास पर चिकित्सकों की टीम जरूर पहुंची थी।
दरअसल, वाराणसी से होकर गुजरने वाली गंगा और वरुणा नदियों में उफान आने के बाद प्रशासन राहत सामग्री बांटने में लगा हुआ है। गुरुवार को वरुणा नदी के किनारे बाढ़ में डूबे इलाकों में डीएम सुरेंद्र सिंह प्रशासनिक टीम के साथ राहत सामग्री बांट रहे थे। डीएम इस दौरान एक दीवार पर खड़े थे, उसी समय वह दीवार ढह गई। इस दीवार की चपेट में तीन लोग आ गए। इस घटना में हालांकि किसी को ज्यादा चोट नहीं आई। डीएम तुरंत ही संभलते हुए ईंट हटाकर लोगों की मदद करने लगे। मौके पर मौजूद एसएसपी आनंद कुलकर्णी सहित अन्य अधिकारियों के साथ डीएम सुरेंद्र सिंह ने मोटर बोट पर गिरी ईंटों को अपने हाथों से उठाकर नीचे फेंका। इसके बाद मलबे के नीचे दबे एनडीआरएफ के जवानों को बाहर निकाला गया। कोनिया घाट के पास बाढ़ के पानी में चारों तरफ से घिरे राजकुमार सेठ के परिजन और उनके घर के बच्चे राहत सामग्री जब खुद के हाथों से नहीं ले पाए तो डीएम सुरेंद्र सिंह एनडीआरएफ की मोटर बोट से उतरकर किसी प्रकार राजकुमार सेठ के घर की चारदीवारी फांद कर अंदर गए और एनडीआरएफ के जवानों से राहत सामग्री लेकर अपने हाथों से उठाकर फेंक रहे थे।


Popular posts from this blog

स्वरोजगारपरक योजनाओं के अंतर्गत ऑनलाइन ऋण वितरण मेले का किया गया आयोजन

भारत विदेश नीति के कारण वैश्विक शक्ति बनेगा।

बांसडीह में जाति प्रमाण पत्र बनाने को लेकर दर्जनों लोगों ने एसडीएम को सौपा ज्ञापन