वीडियो की फोरेंसिक जांच के आधार पर चिन्मयानंद को किया गया गिरफ्तार : डीजीपी

मुरादाबाद।


मुरादाबाद पहुँचे उ.प्र. के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) ओपी सिंह ने स्वामी चिन्मयानंद की गिरफ्तारी पर बोलते हुए कहा कि फोरेंसिक जांच के आधार पर स्वामी चिन्मयानंद को बलात्कार के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। साथ ही एक्सटॉर्शन के मामले में तीन अन्य लोगों को भी गिरफ्तार किया गया है जिन्हें कोर्ट में पेश किया जा रहा है।
डीजीपी ने मीडिया से बातचीत में बताया कि स्वामी चिन्मयानंद को सुबह उनके आश्रम से गिरफ्तार किया गया है। हमारी एसआईटी की टीम ने उनको गिरफ्तार करके उनका मेडिकल कराया और उन्हें कोर्ट में पेश कर उन्हें जेल भेजा गया है। उनको 14 दिन की न्यायिक रिमांड पर भेजा गया है।
डीजीपी ने कहा कि इसके साथ-साथ हमने तीन और अभियुक्तों को गिरफ्तार किया है, उन्हें भी कोर्ट में पेश किया जा रहा है। वो तीनो एक्सटॉर्शन के मामले में गिरफ्तार किए गए है, उन्होंने यहां साफ किया है कि स्वामी चिन्मयानंद को बलात्कार के मामले में गिरफ्तर किया गया है।
मामले में विस्तार से बताते हुए डीजीपी ने कहा कि पीड़िता के बयान के बाद एसआईटी काफी बारीकी से इसकी जांच कर रही थी। कुछ वीडियो क्लिपिंग और एक्सटॉर्शन के हांसिल कर उन्हें फोरेंसिक जांच के लिए भेजा गया था, उसके आधार पर ही स्वामी चिन्मयानंद और तीन अन्य अभियुक्तों को गिरफ़्तार किया गया है।


Popular posts from this blog

भारत विदेश नीति के कारण वैश्विक शक्ति बनेगा।

बांसडीह में जाति प्रमाण पत्र बनाने को लेकर दर्जनों लोगों ने एसडीएम को सौपा ज्ञापन

स्वरोजगारपरक योजनाओं के अंतर्गत ऑनलाइन ऋण वितरण मेले का किया गया आयोजन