अखाड़ा परिषद का यू-टर्न, चिन्मयानंद के समर्थन का लिया फैसला

प्रयागराज।


हिंदू संतों की सर्वोच्च संस्था अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद (एबीएपी) ने चिन्मयानंद मामले में यू-टर्न ले लिया है। महंत नरेंद्र गिरि ने पहले घोषणा की थी कि हरिद्वार में 10 अक्टूबर को होने वाली एबीएपी की बैठक में चिन्मयानंद को संत समुदाय से बाहर किया जाएगा, अब सोमवार को उन्होंने कहा कि वे चिन्मयानंद को समर्थन देना जारी रखेंगे।
महंत ने कहा कि चिन्मयानंद के साथ अन्याय हुआ है। संतों की छवि धूमिल करने का यह बड़ा षड्यंत्र है और इस समय हम चिन्मयानंद को अकेला नहीं छोड़ेंगे। लगता है, वीडियो बनाए जाते समय चिन्मयानंद को कई मादक पदार्थ खिला दिया गया था। इस मामले में कानून की छात्रा की संदिग्ध भूमिका से इनकार नहीं किया जा सकता। उन्होंने कहा कि लड़की और उसके साथियों द्वारा पैसे मांगे जाने वाला वीडियो सार्वजनिक होने के बाद संतों ने फैसला लिया कि इस मामले को चिन्मयानंद को फंसाने का षड्यंत्र माना जाए। गिरि ने कहा कि अब हम एबीएपी की हरिद्वार बैठक में चिन्मयानंद का समर्थन करने की घोषणा करेंगे। वह इस मसले को कानूनी तरीके से सुलझाने में सक्षम हैं, लेकिन हम सामाजिक स्तर पर उन्हें समर्थन देते रहेंगे।


 


Popular posts from this blog

स्वरोजगारपरक योजनाओं के अंतर्गत ऑनलाइन ऋण वितरण मेले का किया गया आयोजन

भारत विदेश नीति के कारण वैश्विक शक्ति बनेगा।

बांसडीह में जाति प्रमाण पत्र बनाने को लेकर दर्जनों लोगों ने एसडीएम को सौपा ज्ञापन