ग्राम समाज की बेशकीमती जमीन को बेचने की फिराक में प्रधान

ऐराया ब्लाक की ऐराया सादात ग्राम सभा का है मामला
पहले बाग उजाड़ा फिर बंजर जमीन को ठिकाने लगाने की है योजना
डीएम से मिले ग्रामीण, प्रधान समेत खागा तहसील प्रशासन पर मढ़े गंभीर आरोप
फतेहपुर


बेशकीमती सरकारी जमीनो पर बड़े खेल की मनोवृत्ति अब शहरों की सीमा लाँघ कर गाँव-देहात की दहलीज पर दस्तक देने लगी हैं। ऐसे मामलों में ग्राम प्रधानो की कुत्सित मानसिकता को सम्बंधित तहसील प्रशासन का वरदहस्त होना प्रायः योगी सरकार के इस मद में दावों की हवा निकालता रहा है।
सम्बंधित ग्राम सभाओं के लोगों का विरोध भी प्रशासनिक चौखटों पर दम तोड़ता रहा है। ऐसा ही एक मामला खागा तहसील के ऐराया ब्लाक अंतर्गत ग्राम सभा ऐराया सादात का प्रकाश में आया है, जहाँ पर ग्राम प्रधान द्वारा न सिर्फ ग्राम समाज की (लगभग 09 बिस्वा-बंजर) 0.0730 हे० मुख्य मार्ग की जमीन पर खड़े पुराने पेड़ों को कटवाकर बेच डाला बल्कि अब इस करोड़ों की जमीन को बेचने का ताना बाना बुना जा रहा है।
उल्लेखनीय है कि ग्राम सभा ऐराया सादात में खसरा नं० 246 भूमि नौबस्ता रोड पर स्थित है। लगभग 09 बिस्वा इस बेसकीमती भू-भाग पर भू-मफियाओ की नजर काफी समय से टिकी थी। इन मफियाओ से मिलकर उक्त ग्राम सभा के मौजूदा प्रधान ने बड़े खेल का ताना-बाना बुना है। खबर है कि योजनाबद्ध ढंग से पहले इस जमीन पर खड़े दर्जनो पुराने फलदार वृक्षों को ठिकाने लगाया गया और फिर अब सरकारी दस्तावेजो में बंजर दर्ज इस भू-भाग को बेचने की पूरी तैयारी कर ली गई है। यहाँ पर गौरतलब है कि सूबे की योगी सरकार सरकारी जमीनो के संरक्षण व उनकी सुरक्षा के बाबत क्यू न गंभीर हो और शासन-प्रशासन स्तर पर कड़े निर्देश भी जारी किये गये हों, बावजूद इसके सरकारी जमीनो से सम्बंधित मामले थमने का नाम नहीं ले रहे है।
ग्राम सभा ऐराया सादात के प्रधान द्वारा ग्राम समाज की बंजर बेसकीमती जमीन के पेड़ों को कटवाए जाने और अब जमीन को बेचे जाने की चल रही कवायद को रोके जाने और समूचे मामले की जाँच कराने की माँग गाँव के लोगों ने जिला अधिकारी से मिलकर की। बकौल ग्रामीण इस खेल में खागा तहसील प्रशासन की भूमिका संदिग्ध है और कई जिम्मेदारों की मिलीभगत से प्रधान व उसके माफिया साथी बेशकीमती जमीन को ठिकाने लगाने की फिराक में है। खबर है डीएम ने इस सन्दर्भ में खागा एसडीएम को त्वरित कार्यवाई के निर्देश दिये है।


Popular posts from this blog

स्वरोजगारपरक योजनाओं के अंतर्गत ऑनलाइन ऋण वितरण मेले का किया गया आयोजन

मंत्र की उपयोगिता जांचें साधना से पहले

’’पवन गुरू, पानी पिता, माता धरति महत’’ को अपने जीवन का अंग बनायें : स्वामी चिदानन्द सरस्वती