कांग्रेस की कार्यशाला में सामाजिक, आर्थिक, ऐतिहासिक मुद्दों और संवाद-संचार पर हुआ प्रशिक्षण

सांगठनिक ढांचा मजबूत करने और आगामी आंदोलनों पर बनी रणनीति
रायबरेली।

कांग्रेस पार्टी द्वारा रायबरेली में आयोजित तीन दिवसीय प्रशिक्षण कार्यशाला में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी, पं0 जवाहर लाल नेहरू, बाबा साहब भीमराव अंबेडकर, मौलाना अबुल कलाम आजाद, सरदार बल्लभ भाई पटेल, सुभाष चन्द्र बोस, विनोबा भावे, छत्रपति शाहू जी, ज्योतिबा फुले, सन्त रैदास, कबीर समेत देश के तमाम महापुरूषों के विचारों पर परिचर्चा हुई। साथ ही साथ प्रशिक्षण में तमाम राजनीतिक दर्शनों पर गम्भीर चर्चा परिचर्चा हुई।
उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के पदाधिकारियों ने देश की आर्थिक स्थिति पर चर्चा की। भाजपा की जनविरोधी आर्थिक नीतियों-जीएसटी के गलत क्रियान्वयन, नोटबन्दी, कालाधन, आर्थिक मंदी के नुकसान को जनता के बीच बेहतर तरीके से ले जाने का प्रशिक्षण लिया। प्रशिक्षण में बेरोजगारी, किसान समस्या, कानून व्यवस्था, महिला हिंसा, उत्पीड़न, शिक्षा, स्वास्थ्य, बाढ़ जैसे ज्वलंत मुद्दों पर गंभीर चर्चा हुई। जनता से संवाद, कुशल नेतृत्व, जनसंचार माध्यमों के उपयोग, सोशल मीडिया की ट्रेनिंग दी गई। कार्यशाला में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के जीवन पर आधारित फिल्म दिखाई गई।
उत्तर प्रदेश में सांगठनिक ढांचा मजबूत करने और आगामी आंदोलनों पर रणनीति बनी। उत्तर प्रदेश में कांग्रेस पार्टी को मजबूत करने के लिए कार्यशाला में संगठन को मजबूत करने और आगामी आंदोलनों पर रणनीति बनी। कार्यशाला में उपस्थित पदाधिकारियों की जिम्मेदारी और जवाबदेही तय की गई। साथ ही साथ उत्तर प्रदेश में विभिन्न मुद्दों पर आंदोलन करने की रूपरेखा तैयार की गई।
रायबरेली के पूर्व सांसद अशोक सिंह के बेटे व बसपा के पूर्व प्रत्याशी मनीष सिंह ने कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी के समक्ष कांग्रेस पार्टी की सदस्यता ग्रहण की।


Popular posts from this blog

स्वरोजगारपरक योजनाओं के अंतर्गत ऑनलाइन ऋण वितरण मेले का किया गया आयोजन

भारत विदेश नीति के कारण वैश्विक शक्ति बनेगा।

बांसडीह में जाति प्रमाण पत्र बनाने को लेकर दर्जनों लोगों ने एसडीएम को सौपा ज्ञापन