मछुवारों का आरोप, ठेकेदार वसूल रहे गुण्डा टैक्स

फतेहपुर।

मछुआरा कल्याण समिति ने आज नहर कॉलोनी में धरना प्रदर्शन करते हुए मुख्यमंत्री को संबोधित ज्ञापन जिलाधिकारी को सौंपते हुए बताया कि थाना सदर यमुना नदी के किनारे बसे अन्य मछुआरा/निषाद/केवट जिनका मुख्य व्यवसाय नाव द्वारा यमुना नदी में मछली पकड़ना है यमुना नदी में क्षेत्रवार पानी की नीलामी ठेकेदारों को कर दी जाती है। ठेकेदार अपने गुंडों द्वारा इन मछुआरा समुदाय के लोगों से 4 प्रति किलो से अधिकतम 20 प्रति किलो जबरिया मछली ले लेते हैं तथा 10 किलो मछली में 3 किलो बट्टा काटकर 7 किलो मछली का ही दाम दिया जाता है। कहीं शिकायत करने पर इनके साथ पुलिस प्रशासन और ठेकेदारों द्वारा उत्पीड़न की कार्रवाई की जाती है। यदि कोई व्यक्ति शोषण अत्याचार के खिलाफ आवाज उठाता है तो वह क्षेत्र में रहने भी नहीं दिया जाता। आमदनी का दूसरा जरिया ना होने के कारण इस समुदाय के लोगों के सामने रोजी-रोटी की समस्या, बच्चों को पढ़ाने-लिखाने की समस्या, बीमारी में इलाज कराने की समस्या, मकान ना होने की वजह से रहने की समस्या बनी रहती है इस समुदाय के लोग अधिकतर अनपढ़ व अशिक्षित हैं और इनके बच्चों के लिए शिक्षा का इंतजाम नहीं है। नदी किनारे एहतमाली की पड़ी जमीनों में इलाके के असरदार लोगों के द्वारा कब्जा कर लिया गया है। इन मछुआरों को आने जाने का रास्ता व नाव खड़ी करने की जगह भी नहीं मिल पा रही है। जिसके कारण इस समुदाय के लोग बेहद गरीबी/मुफलिसी में अपना जीवन बिता रहे हैं। अनेकों बार इस समुदाय के लोगों की समस्याओं के बारे में शासन प्रशासन को अवगत कराने के बाद भी इनकी समस्याओं का कोई निदान अब तक नहीं किया जा सका है। इस मौके पर रामनरेश, अर्जुन, पूरनलाल, प्रतिभा निषाद, सिद्धू, रामनाथ, जगदीश, अशोक कुमार, रामकेश, अर्जुन व आदि मछुआरा समाज के लोग मौजूद रहे।


 


Popular posts from this blog

स्वरोजगारपरक योजनाओं के अंतर्गत ऑनलाइन ऋण वितरण मेले का किया गया आयोजन

भारत विदेश नीति के कारण वैश्विक शक्ति बनेगा।

मंत्र की उपयोगिता जांचें साधना से पहले