उ.प्र. के उच्च सदन ने महात्मा गांधी और लाल बहादुर शास्त्री को दी श्रद्धांजलि

लखनऊ।

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150वीं जयंती पर विधान परिषद के 36 घंटे लगातार चलने वाली कार्यवाही में बुद्धवार को उच्च सदन में मौजूद सभी सदस्यों ने महात्मा गांधी के साथ-साथ पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री को भी श्रद्धासुमन अर्पित किए। खास बात यह रही कि इस ऐतिहासिक पलों के बीच विपक्षी दल के लोग शामिल नहीं हुए। हालांकि भाजपा के सहयोगी अपना दल (एस) ने सदन की कार्यवाही में भाग लिया। वहीं सपा के एमएलसी शतरूद्र प्रकाश ने महात्मा गांधी पर लिखा अपना वक्तव्य सदन में भेजा, जिसे स्वीकार किया गया।
सभापति रमेश यादव ने सदन में कार्यपरामर्श दात्री समिति की संस्तुति प्रस्तुत की एवं महात्मा गांधी जी की 150वीं जयन्ती के अवसर पर विधान परिषद् की आहूत बैठक पर उद्बोधन देते हुये नेता सदन से प्रस्ताव प्रस्तुत करने के निर्देश दिये।
पीठ के निर्देश पर नेता सदन डा़ॅ दिनेश शर्मा ने कहा कि महात्मा गांधी जी ने हमें जो आजादी का लक्ष्य दिया था, जो उनकी विचारधारा थी, उसे हमें प्राप्त करना है। उनका मानना था कि हमारी मंजिल सही होनी चाहिए और सही रास्ते पर चलकर मंजिल प्राप्त करना ही उचित होता है। संयुक्त राष्ट्र संघ द्वारा निर्धारित सतत् विकास लक्ष्यों पर चर्चा के दौरान डॉ. शर्मा ने कहा कि राज्य सरकार को 57 निजी विश्वविद्यालयों के प्रस्ताव मिले हैं। उन्होंने कहा कि अंग्रेजों ने देश को जरूर लूटा, मगर यहां की संस्कृति और संस्कार इतने मजबूत थे कि उसे अंग्रेज नहीं खत्म कर पाए।
अपना दल के नेता आशीष पटेल ने कहा कि हमें महात्मा गांधी के आदर्शो को अपने जीवन में नियमित रूप से लाने से बदलाव आएगा। खाली एक दिन झाडू पकड़ने से नहीं, बल्कि महात्मा गांधी के आदर्शो को अपने जीवन में शामिल करना होगा। गांधी जी के चार मुख्य विचारों स्वच्छता, स्वदेशी, स्वराज और स्वावलंबन पर ध्यान केन्द्रित करना चाहिए। स्वदेशी न केवल एक शब्द, बल्कि गरीब एवं शोषित जनता के लिए रोजगार का एक उदेश्य था।
विधान परिषद में शिक्षक दल के नेता ओम प्रकाश शर्मा ने कहा कि गांधी जी कहते थे पाप से घृणा करो, पापी से नहीं। हमें अपने जीवन में इसे लागू करना होगा। बिना नाम लिए मॉब लिंचिंग की ओर इशारा करते हुए उन्होंने कहा कि सड़कों पर भीड़ मार देती है, इस पर सोचने और रोक लगाने की जरूरत है।
राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) नीलकंठ तिवारी ने सतत् विकास लक्ष्यों पर कहा कि राज्य सरकार हर विधानसभा क्षेत्र में एक पर्यटन स्थल विकसित कर रही है, जिसका फायदा स्थानीय लोगों को मिलेगा, साथ ही वन डिस्ट्रिक्ट, वन डेस्टिनेशन पर भी सरकार काम कर रही है।
निर्दलीय समूह के राज बहादुर सिंह चन्देल ने कहा कि आज महात्मा गांधी की 150वीं जयंती के अवसर पर चले रहे इस सत्र में मुझे भी अपने विचार व्यक्त करने का अवसर मिला है, इसके लिये आपको धन्यवाद देते हैं। यह जरूर है कि महात्मा गांधी स्वयं एक सामान्य इंसान नहीं, महामानव थे। उनके विचार और उनकी सोच ने ही इस देष को आजादी दिलाने में इस लोगों, देश का मार्ग और उस समय के स्वाधीनता संग्राम सेनानियों का मार्ग प्रशस्त किया। यह सच है कि अगर सत्य और अहिंसा का मार्ग न अपनाया गया होता, तो पता नहीं कितना खून खराबा होता और उसके बाद भी शायद हम आजादी प्राप्त नहीं कर पाते।          


Popular posts from this blog

स्वरोजगारपरक योजनाओं के अंतर्गत ऑनलाइन ऋण वितरण मेले का किया गया आयोजन

मंत्र की उपयोगिता जांचें साधना से पहले

भारत विदेश नीति के कारण वैश्विक शक्ति बनेगा।