पीलीभीत से चुनाव नहीं लड़ेंगी मेनका गांधी, वरुण गांधी के लिए खाली करेंगी सीट

मेनका ने 1989 में पहली बार पीलीभीत से चुनाव जीता था और यहां से 3 बार सांसद रह चुकी हैं। माना जा रहा है कि पीलीभीत से उनके बेटे वरुण गांधी चुनाव लड़ सकते हैं।


केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी को लेकर एक बड़ी खबर सामने आ रही है। मेनका गांधी के करीबी सूत्रों की माने तो वह लोकसभा चुनाव में हरियाणा के करनाल से लड़ने की इच्छुक हैं। ऐसा कहा जा रहा है कि उन्होंने पार्टी अध्यक्ष अमित शाह को इस बात से अवगत करा दिया हैं। फिलहाल मेनका पीलीभीत से सांसद हैं। मेनका ने 1989 में पहली बार पीलीभीत से चुनाव जीता था और यहां से 3 बार सांसद रह चुकी हैं। माना जा रहा है कि पीलीभीत से उनके बेटे वरुण गांधी चुनाव लड़ सकते हैं। वर्तमान में वरुण गांधी सुल्तानपुर से सांसद हैं।


भाजपा की बात करें तो फिलहाल पार्टी उनकी इस मांग पर विचार कर रही है हालांकि प्रदेश स्तर पर उनके नाम की सहमति नहीं बन पा रही है। हरियाणा भाजपा उन्हें करनाल की बजाए कुरुक्षेत्र सीट से उम्मीदवार बनाना चाहती है पर मेनका वहां से चुनाव लड़ने को राजी नहीं हैं। यह भी कहा जा रहा है कि पीलीभीत से उन्हें हार का खतरा लग रहा है।


बता दें कि मेनका गांधी मोदी सरकार में महिला एवं बाल विकास मंत्रालय की जिम्मेदारी संभाल रही हैं। मेनका गांधी अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में भी मंत्री रह चुकी हैं। गौरतलब है कि 17वी लोकसभा चुनाव के लिए तारीखों की घोषणा की जा चुकी है और भाजपा टिकट बंटवारे को लेकर लगातार बैठकें कर रही है।


Popular posts from this blog

भारत विदेश नीति के कारण वैश्विक शक्ति बनेगा।

स्वरोजगारपरक योजनाओं के अंतर्गत ऑनलाइन ऋण वितरण मेले का किया गया आयोजन

अपनी दाढ़ी का रखें ख्याल, दिखेंगे बेहद हैंडसम