ईश्वर से अलग कुछ नहीं

जो होगा, देखा जाएगा, बस यह कहिए और देखिए कि क्या होता है। यदि आप विश्वास को लाने का प्रयास कर रहे हैं, तो कुछ नहीं होगा। मैं अपनी श्रद्धा बनाए रखना चाहता हूं? कौन सी श्रद्धा आप बनाए रखना चाहते हैं। फेंक दीजिए श्रद्धा को! आप अपनी श्रद्धा को बरकरार रखने का प्रयास कर रहे हैं, यह कितना बड़ा बोझ है! उलटा कहिए, मुझे कोई परवाह नहीं है! यदि श्रद्धा है, तो है। यदि श्रद्धा नहीं है, तो नहीं है, आप कर भी क्या सकते हैं। यह सीधी सी बात है। श्रद्धा भी एक उपहार है। आप अपने दिल और दिमाग में श्रद्धा थोपने का प्रयास नहीं कर सकते। कभी-कभी,जब आपका दिमाग अपनी बक-बक और नकारात्मकता से श्रद्धा को नकार भी देता है, तब भी आपके अंदर कुछ होता है, जो आपको उस दिशा में ढकेलता है। जब ऐसा होता है, तो उसे पहचानिए और ऐसा होता है। कोई कहता है, मैं किसी में विश्वास नहीं करता, लेकिन फिर भी वह बैठकर ध्यान करता है और यदि आप उससे पूछेंगे, आप ध्यान क्यों कर रहे हैं, तो वे कहेंगे, मेरे अंदर कुछ है, जो मुझे ध्यान करने के लिए कहता है। एक व्यक्ति कहता है, मैं गुरु में विश्वास नहीं रखता, लेकिन फिर भी जब गुरुदेव आते हैं, वह कहता है, क्योंकि अब मेरे पास कुछ और करने के लिए नहीं है, तो चलो मैं वहीं चलता हूं और वह वहां पहुंच जाता है। कुछ है, जो उस व्यक्ति को उस ओर खींचता है, उसे एअरपोर्ट की तरफ ले जाता है या सत्संग में आने पर विवश कर देता है। वह क्या है? आपने यह निर्णय ले लिया कि आपको श्रद्धा नहीं है और आपने अपनी श्रद्धा को मिटाने के लिए बहुत जतन कर लिए या मना करते गए कि आपमें कोई श्रद्धा है, लेकिन फिर भी कुछ ऐसा हुआ, जिसने आपको बांधे रखा। वहीं, आपको सजग हो जाना चाहिए कि हां, श्रद्धा तो है। इसलिए श्रद्धा थोपी नहीं जा सकती, वह तो है ही। एक बार जब वह आ जाती है, तो हमेशा रहती है। अगर वह चली जाती है, तो वह आपको दुखी कर देती है। जब आप दुखी हों, तो इतना याद रखिए, श्रद्धा चली गई है इसीलिए मैं दुःख में हूं और आप दुखी नहीं रहना चाहते। तो इसीलिए जिस क्षण आप यह ठान लेते हैं कि मुझे दुखी नहीं रहना, तब श्रद्धा वापस आ जाती है। श्रद्धा तो हमेशा से ही थी, बस वह दोबारा प्रकट हो जाती है। श्रद्धा के बिना तुम्हारा आंतरिक विकास संभव नहीं। श्रद्धा तुम्हें आनंद के मार्ग पर ले जाती है और सजगता तुम्हें व्याकुल रखती है। जहां श्रद्धा नहीं है वहां भय रहता है और जब जागरूकता की कमी हो तो तुम ठीक से समझ न पाओगे।


Popular posts from this blog

भारत विदेश नीति के कारण वैश्विक शक्ति बनेगा।

स्वरोजगारपरक योजनाओं के अंतर्गत ऑनलाइन ऋण वितरण मेले का किया गया आयोजन

अपनी दाढ़ी का रखें ख्याल, दिखेंगे बेहद हैंडसम