बजरंग दल दावा किया कि स्कूल के शिविर में कोई बन्दूक प्रशिक्षण नहीं दिया गया 

मुंबई।


विश्व हिंदू परिषद की युवा शाखा बजरंग दल ने रविवार को दावा किया कि पिछले हफ्ते पड़ोसी ठाणे जिले के एक स्कूल में संगठन की ओर से लगाए गए शिविर में कोई बन्दूक प्रशिक्षण नहीं दिया गया था। एक गैर सरकारी संगठन ने पुलिस में शिकायत की थी कि दक्षिणपंथी संगठन ने मीरा रोड इलाके में स्थित एक स्कूल में शिविर में छात्रों को बंदूक का प्रशिक्षण दिया। पुलिस ने बताया कि नवघर पुलिस इस मामले की जांच कर रही है।


संपर्क करने पर, बजरंग दल के कोंकण क्षेत्र के समन्वयक, संदीप भगत ने इस आरोप को एक राजनीतिक साजिश करार दिया। उन्होंने कहा, ''स्कूल में आयोजित होने वाले शौर्य प्रशिक्षण वर्ग 2019 में भाग लेने वालों ने बंदूक नहीं संभाली। हमारे कुछ कार्यकर्ता एयर-गन लाए थे, जिसके लिए लाइसेंस की आवश्यकता नहीं होती है।'' उन्होंने कहा, ''हमने छात्रों को रैपलिंग, लाठी चलाने, दौड़, और लंबी कूद का प्रशिक्षण दिया । कैंप आयोजित होने से पहले हमने पुलिस को इस बारे में एक पत्र भी दिया था।''


भगत ने कहा कि पुलिस ने उस दुकान से भी प्रतिक्रिया मांगी है जहांसे एयर-गन की खरीद की गई थी और यह पुष्टि की गई कि इनके लिए किसी भी प्रकार के लाइसेंस की आवश्यकता नहीं है। उप मंडलीय पुलिस अधिकारी अतुल कुलकर्णी ने बताया कि पुलिस ने आयोजकों से संपर्क किया और उन्हें शिविर में इस्तेमाल होने वाले हथियारों के लाइसेंस देने के लिए कहा।


 


Popular posts from this blog

स्वरोजगारपरक योजनाओं के अंतर्गत ऑनलाइन ऋण वितरण मेले का किया गया आयोजन

भारत विदेश नीति के कारण वैश्विक शक्ति बनेगा।

बांसडीह में जाति प्रमाण पत्र बनाने को लेकर दर्जनों लोगों ने एसडीएम को सौपा ज्ञापन