बाढ़ का कहर जारी : एक दिन में 29 लोगों की मौत

मुजफ्फरपुर के मीनापुर प्रखंड के शितलपट्टी गांव  में  नदी किनारे कपड़े धो रही तीन वर्षीय अर्जुन की मां अपने उन अन्य तीन छोटे बच्चों को बचाने के लिए पानी में कूद गयी, जाे उसकी आंखों के आगे खेलते-खेलते अचानक नदी में डूबने लगे. उस वक्त यह अर्जुन मां की गाेद में ही था, मगर तेज बहाव में मां के लिए न खुद को बचा पाना मुमकिन था, न बच्चों को. बचाया वहां मौजूद मछुआरों ने, मगर केवल मां और उसके एक बच्चे को. इनमें न अर्जुन था, न उसके दो अन्य भाई-बहन. उन्हें तो बाढ़ लील चुकी थी.

पटना/मुजफ्फरपुर/भागलपुर :


उत्तर व पूर्व बिहार में बाढ़ का कहर जारी है. नये इलाकों में पानी प्रवेश करने से लोगों की मुश्किलें बढ़ गयी हैं. बुधवार को बाढ़ के पानी में डूबने से 29 लोगों की मौत हो गयी. दरभंगा और मुजफ्फरपुर के भी निचले हिस्सों में पानी प्रवेश कर गया है. मधुबनी के बिस्फी में चार स्थानों पर बांध टूटने से नये इलाकों में पानी फैल गया है. पश्चिम चंपारण के सिकटा में त्रिवेणी कैनाल ध्वस्त हो गया.

हालांकि, सीतामढ़ी में पानी कम होने से लोगों को राहत मिली है. इधर, जल संसाधन विभाग ने बताया है कि अधिकतर जगहों पर कोसी, कमला बलान और अधवारा समूह की नदियों का जल स्तर कम हो रहा है, जबकि गंगा नदी का जल स्तर बक्सर और पटना के दीघा घाट को छोड़कर अन्य स्थानों पर बढ़ रहा है. पटना में पुनपुन नदी का भी पानी बढ़ रहा है.

वहीं, बाढ़ से ग्रामीण कार्य विभाग की अब तक 671 सड़कें और करीब आधा दर्जन पुल क्षतिग्रस्त हुए हैं. ग्रामीण कार्य मंत्री शैलेश कुमार ने अधिकारियों को पानी उतरते ही सड़कों को तुरंत वाहन चलने योग्य करने का आदेश दिया है. आपदा प्रबंधन विभाग ने कहा है कि गंगा किनारे खतरनाक घाटों पर लाल झंडा लगाया जायेगा, जिस पर टॉल फ्री नंबर भी लिखा रहेगा.

बिस्फी में तीन जगहों पर महाराजी बांध टूटा

मधुबनी में मंगलवार की देर रात बिस्फी प्रखंड में रघौली, जगवन व रथौस में धौंस नदी का महाराजी बांध टूट जाने से कई पंचायत पानी से घिर गये हैं. बेनीपट्टी के पाली गांव के पास जमींदारी बांध टूट गया है.

अगरोपट्टी के पास बने डायवर्सन पर बाढ़ का पानी चढ़ने से सीतामढ़ी-बेनीपट्टी का सड़क संपर्क भंग हो गया है. मधेपुर में गेहुमा नदी में आयी बाढ़ से एक बच्चे सहित तीन लोगों की मौत हो गयी है. वहीं, झंझारपुर व हरलाखी में पानी में एक-एक शव बरामद किये गये हैं.

कोसी-सीमांचल में बाढ़ से त्राहिमाम की स्थिति अब भी बनी हुई है.बुधवार को डूबने से पूर्णिया में चार और अररिया व सहरसा में दो लोगों की मौत हो गयी. पूर्णिया जिले के बायसी अनुमंडल में परमान में उफान से डगरुआ व आसपास के प्रखंडों में नये इलाकों में पानी फैल रहा है.
सुपौल के त्रिवेणीगंज में मचहा सड़क मार्ग में चिलौनी नदी पर बना डायवर्सन बुधवार की सुबह बह गया. निर्मली नगर के वार्ड नंबर 01, 02 व 12 के इलाके में पानी फैल चुका है. आपदा विभाग के 0612 2294204, 2294205 पर कभी भी कॉल कर आपदा संबंधी कोई भी जानकारी दे सकते हैं.

केंद्रीय जल आयोग के जारी आंकड़ों के अनुसार घाघरा नदी के जल स्तर में कमी होगी. वहीं, गंडक के जल स्तर में 10 सेंमी, बूढ़ीगंडक में अहिरवलिया और सिकंदरपुर घाट पर बढ़ोतरी की संभावना है. बागमती के जल स्तर में ढेंग ब्रिज, रुन्नीसैदपुर और बेनीबाद में कमी की संभावना है, जबकि हायाघाट में 25 सेंमी बढ़ोतरी की संभावना है.

अधवारा समूह की नदियों के जल स्तर में सोनबरसा और कमतौल में कमी की संभावना है. वहीं, एकमी घाट में चार सेंमी बढ़ोतरी का अनुमान है. महानंदा के जल स्तर में तैयबपुर, ढेंगराघाट और झावा में कमी की संभावना है. परमान नदी के जल स्तर में नौ सेंमी कमी की संभावना है.


Popular posts from this blog

स्वरोजगारपरक योजनाओं के अंतर्गत ऑनलाइन ऋण वितरण मेले का किया गया आयोजन

भारत विदेश नीति के कारण वैश्विक शक्ति बनेगा।

मंत्र की उपयोगिता जांचें साधना से पहले