बालिका सुरक्षा जागरूकता के तहत कवच ‘‘जुलाई अभियान’’


उन्नाव


मुख्य सचिव उ0प्र0 शासन लखनऊ एवं जिलाधिकारी श्री देवेन्द्र कुमार पाण्डेय के आदेशानुसार जिला प्रोबेशन अधिकारी श्रीमती रेनू यादव के नेतृत्व में आज जनपद के वी.एस.एम. इण्टर काॅलेज हड़हा, प्राथमिक विद्यालय शिवसिंह खेड़ा, प्राथमिक विद्यालय हिमांचल खेड़ा, प्राथमिक विद्यालय शेखपुर नरी, उच्च प्राथमिक विद्यालय दुर्गाखेड़ा, प्राथमिक विद्यालय बंथर-।।, प्राथमिक विद्यालय बंथर-।, राजकीय बालिका इण्टर काॅलेज अचलगंज, सिटी पब्लिक स्कूल मिर्री खेड़ा पुरवा, ऋषिकुल विद्यापीठ इण्टर काॅलेज पुरवा, प्राथमिक एवं उच्च प्राथमिक विद्यालय मिर्रीखेड़ा पुरवा, श्री कमलापति इण्टर काॅलेज बीघापुर, वी.डी.टी. इण्टर काॅलेज मियागंज, प्राथमिक विद्यालय रसूलपुर, उच्च प्राथमिक विद्यालय पिड़ना, प्राथमिक विद्यालय पिड़ना, प्राथमिक विद्यालय बहादुर खेड़ा, प्राथमिक विद्यालय दलेलखेड़ा, कन्या प्राथमिक विद्यालय कुरसठ, प्राथमिक विद्यालय कुरसठ ग्रामीण, उच्च प्राथमिक विद्यालय अनवरखेड़ा, प्राथमिक विद्यालय शेरपुर कलां, कन्या उच्च प्राथमिक विद्यालय शेरपुर कलां, प्राथमिक विद्यालय ढोलौवा, उच्च प्राथमिक विद्यालय ढोलौवा, प्राथमिक विद्यालय टिकरा कुमेदान, प्राथमिक विद्यालय बादुल्ला खेड़ा, प्राथमिक विद्यालय कन्हऊ, प्राथमिक विद्यालय गोंसाई खेड़ा, उच्च प्राथमिक विद्यालय गोंसाई खेड़ा, उच्च प्राथमिक विद्यालय कुरसठ, प्राथमिक विद्यालय बाकर खेड़ा, बाल प्राथमिक विद्यालय कुरसठ, कैलाश पटेल बालिका इण्टर काॅलेज थाना फतेहपुर चैरासी जनपद उन्नाव में बालिका सुरक्षा जागरूकता के तहत कवच ''जुलाई अभियान'' का क्रियान्वयन कर बालिकाओं को सुरक्षा एवं आत्मरक्षा हेतु 1098-चाईल्ड लाइन, 181-महिला हेल्पलाइन, बाल अधिकार/बाल संरक्षण, बाल विवाह/बालश्रम, बाल यौन शोषण, 100-डायल पुलिस विभाग, वन स्टाप सेण्टर, उ.प्र. रानी लक्ष्मीबाई महिला एवं बाल सम्मान कोष, पाॅक्सो अधिनियम, कन्या भ्रूण हत्या निवारण अधिनियम, किशोर न्याय (बच्चों की देखरेख और संरक्षण अधिनियम, 2015), इमरजेन्सी नम्बर '112' (पैनिक बटन सुविधा), अशोभनीय चित्रण निषेध अधिनियम, 1986 तथा गुड टच एवं बैड टच के बारे में विस्तृत जानकारी दी गयी।


Popular posts from this blog

स्वरोजगारपरक योजनाओं के अंतर्गत ऑनलाइन ऋण वितरण मेले का किया गया आयोजन

भारत विदेश नीति के कारण वैश्विक शक्ति बनेगा।

मंत्र की उपयोगिता जांचें साधना से पहले