‘‘भूजल सप्ताह’’ के दूसरे दिन जल संरक्षण पर आधारित चित्रकला प्रतियोगिता एवं विज्ञान प्रश्नोत्तरी कार्यक्रम आयोजित

लखनऊ।


आंचलिक विज्ञान नगरी, लखनऊ में भूगर्भ जल विभाग उ0प्र0 के सहयोग से आयोजित ''भूजल सप्ताह''के दूसरे दिन जल संरक्षण पर आधारित चित्रकला प्रतियोगिता, जल प्रदूषण एवं जल के सतत उपयोग विषय पर एक विज्ञान प्रश्नोतरी कार्यक्रम का आयोजन किया गया, जिसमें 300 से अधिक स्कूली विद्यार्थियों ने उत्साहपूर्वक भाग लिया। इस प्रतियोगिता में इस बात पर जोर दिया गया कि नहाने में और सफाई के दौरान कितना पानी खर्च किया जाता है और हम क्या खाते और पीते हैं। अपनी जीवन शैली में कुछ बदलाव लाकर अमूल्य जल संसाधनों को बचाने में जल संरक्षण के प्रति एक छोटा, लेकिन महत्वपूर्ण योगदान दिया जा सकता है।
इसके अतिरिक्त ''जल संदूषण एवं इसे बचने के उपाय'' पर आधारित एक प्रदर्शनी का आयोजन किया गया जिसमें प्रो. संजीव शुक्ला, जंतु विज्ञान विभाग, बी0 एस0एन0वी0, पी0जी0 कॉलेज, लखनऊ ने विद्यार्थियों को मनोरंजक ढ़ंग से जल प्रदूषकों को पता करने के प्रयोग दिखाए एवं गंदे पानी से फैलने वाली बीमारियों से भी अवगत कराया। डॉ शुक्ला ने जल को पीने योग्य बनाने एवं जल को दूषित होने से बचाने के भी उपाय बताये।उन्होंने जल की क्षारीयता, अम्लता, भारीपन, चभ्ए गंधलापन एवं घुलित ऑक्सीजन डिजिटल उपकरणों के माध्यम से जांचने के सजीव प्रयोग करके दिखाए एवं इसके पश्चात उन्होंने उपर्युक्त गुणों को मैन्युअल तरीके से जांचने की विधियाँ सिखाई।


 


Popular posts from this blog

स्वरोजगारपरक योजनाओं के अंतर्गत ऑनलाइन ऋण वितरण मेले का किया गया आयोजन

भारत विदेश नीति के कारण वैश्विक शक्ति बनेगा।

मंत्र की उपयोगिता जांचें साधना से पहले