एसडीएम व तहसीलदार सदर की शिकायत सीएम से

गैर भाजपाई नजरिए के साथ साथ, सरकारी जमीनो के मसले में संजीदा न होने का लगा आरोप


फतेहपुर।


सरकारी जमीनो पर हो रहे ताबड़तोड़ कब्जों के मामले में अपेक्षित कार्यवाई न करने व राजस्व विभाग की संदिग्ध भूमिका को लेकर चर्चा में चल रहे एसडीएम सदर प्रह्लाद सिंह व तहसीलदार सदर विदुषी सिंह की शिकायत मुख्यमन्त्री से की गई है। इस संदर्भ में सदर तहसील व नगर पालिका परिषद की तमाम पत्रावलियों की पिछले दो साल में सीरत बदल जाने का भी उल्लेख किया गया है।
भाजपा के एक पूर्व विधायक ने मौजूदा केंद्रीय मंत्री साध्वी निरंजन ज्योति के एक पत्र का हवाला देते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से शासन स्तर की टीम गठित कर सघन जाँच की अपेक्षा जताई है और यह भी आरोप लगाया है कि मौजूदा प्रशासन का रूख गैर भाजपाई होने से जनमानस में सरकार की छवि बिगड़ रही है और भ्रष्टाचार तथा भू-माफिया पूरी तरह हावी हैं!
गौरतलब है कि शहर में पिछले कुछ दिनो में सरकारी जमीनो में कब्जो के मामलों में अप्रत्याशित ढंग से बढ़ोत्तरी हुई है, जो खासकर लोकसभा चुनाव के बाद तेजी से बिगड़े हालातों का हवाला देता है। फिलहाल नाम न छापने की शर्त पर भाजपा के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व विधायक ने बताया कि मौजूदा समय में फतेहपुर के हालात जिस तरह से खस्ता हुए है, वह भविष्य के दृष्टिगत अच्छे संकेत नहीं है।
इस पत्र में ताम्बेश्वर चौराहे पर सरकारी तालाब को पाटकर नर्सिंग होम बनाने की चल रही कवायद व बाकरगंज इलाके में सरकारी जमीन पर बन रहे माल के निर्माण में राजस्व अधिकारियों की संदिग्ध भूमिका का विस्तार से उल्लेख किया गया है। इस पत्र में एसडीएम सदर की एक जाँच अख्या का भी उल्लेख किया गया है, जिसमें दूसरी जमीन का उल्लेख करके प्रकरण को ही भ्रमित करने की बात कही गई है। पूर्व विधायक ने एक वरिष्ठ अधिवक्ता के पत्र का भी उल्लेख किया है जिसमें सदर तहसील की एक सैंकड़ा से अधिक व नगर पालिका परिषद फतेहपुर की ४४ पत्रावलियों की सीरत बदल जाने की बात कही गई है, जिसपर त्वरित कार्यवाई की आवश्यकता जताई गई है।


Popular posts from this blog

स्वरोजगारपरक योजनाओं के अंतर्गत ऑनलाइन ऋण वितरण मेले का किया गया आयोजन

भारत विदेश नीति के कारण वैश्विक शक्ति बनेगा।

बांसडीह में जाति प्रमाण पत्र बनाने को लेकर दर्जनों लोगों ने एसडीएम को सौपा ज्ञापन