खीरी टाउन चैकी बनी अवैध वसूली का अड्डा

लखीमपुर खीरी।


खीरी टाउन चैकी इंचार्ज पर संगीन आरोप लग रहे हैं। खीरी चैकी इंचार्ज अनेकपाल सिंह पर आरोप लग रहे हैं कि बिना गालीगलौज के वह किसी से बात नही करते है और बिना दान दक्षिणा के कोई कार्य किया नही जाता। अवैध वसूली के नाम पर चैकी इंचार्ज 5 से पंद्रह हजार रुपये तक वसूलते हैं। आपको बताते चलें कि खीरी टाउन निवासी नफीस ने खीरी टाउन चैकी इंचार्ज पर सीधा आरोप लगाया है कि अनेकपाल सिंह अवैध धन उगाही कर रहे है।इस बाबत नफीस ने शिकायती पत्र आलाधिकारियों को प्रेषित किया है जिसमे नफीस ने अनेकपाल सिंह पर लगाये गए सारे आरोपों को बारी बारी से लिपिबद्ध किया है।
नफीस के आरोप
1-मोहल्ला सैयद बाड़ा 70000 रुपये का जुआ पकड़ा गया और 21 मोबाइल जब्त किए गए। जिसमे अनेकपाल ने 40000 रुपये जुआ खिलाने वाले लिए और बाद में मोबाइल के नाम पर भी रुपये वसूले गए और अंततः मामले को रफेदफे कर दिया गया।


2-कदीर आलम कुरेशी से भैस के मांस पकड़ने पर 35000 रुपये वसूले गए।


3-पत्तिपूर्व के रामदत्त से 10000 रुपये बलात्कार के केस के नाम पर वसूले गए।


4-मांस विक्रेताओं से 30 से 40 हजार रुपये की अवैध वसूली हर हफ्ते की जाती है।


5-खीरी टाउन के चैकी इंचार्ज सटोरी किंग्स से जुआ व सट्टे के नाम पर हर हफ्ते रुपये वसूले जाते है।


6-आरती प्रजापति के मामले में मुस्लिम लड़के से 10000 रुपये लिए गए बाद में उसी लड़के से 70000 रुपये लेकर अपनी सरपरस्ती में जबरन कोर्ट मैरिज कराई।


7-चरस ड्रग्स वालो से 30000 रुपये लेकर उन्हें ड्रग्स का धंधा करने के लिए खुला छोड़ दिया गया।


8-चैकी इंचार्ज बेधड़क बेखौफ होकर फलों का ठेला लगाने वालों या ऑटो चलाने वालों को परेशान करते नजर आते है।जिससे क्षेत्र विशेष में कभी भी धार्मिक उन्माद हो सकता है। इतने सारे आरोपों की लिखित शिकायत खीरी टाउन निवासी नफीस ने की है।और आलाधिकारियों से निवेदन किया है कि जल्द ही चैकी इंचार्ज पर नकेल कसी जाए अन्यथा कभी भी खीरी टाउन में कोई धार्मिक अप्रिय घटना घट सकती है। चैकी इंचार्ज की कार्यशैली से क्षेत्र विशेष के लोग बेहद परेशान है।अनेकपाल सिंह ने चैकी खीरी टाउन को अवैध वसूली का अड्डा बना दिया है।


 


Popular posts from this blog

स्वरोजगारपरक योजनाओं के अंतर्गत ऑनलाइन ऋण वितरण मेले का किया गया आयोजन

भारत विदेश नीति के कारण वैश्विक शक्ति बनेगा।

मंत्र की उपयोगिता जांचें साधना से पहले