पूर्व मंत्री पहुंचे चकमदा देखे हालात, लोगों से बीमारी के बारे में पूछा

सफाई और दवाई के बाद हालात में हुआ सुधार


बिंदकी फतेहपुर।


चकमदा गांव में संक्रामक बीमारी के चलते 2 दर्जन से अधिक लोग बीमार हो गए थे हालांकि जैसे ही इस मामले की खबर प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में छाई तो तुरंत प्रशासन सक्रिय हो गया। जिसके चलते दूसरे दिन उपजिलाधिकारी मौके पर पहुंचे। मौके का जायजा लिया, पूर्व शिक्षा मंत्री जनसेवक भी गांव पहुंचे, लोगों से बातचीत किया। वहां के हालात को देखा और मौजूद स्वास्थ्य विभाग के लोगों को आवश्यक निर्देश भी दिए हालांकि गांव में हुई सफाई व्यवस्था तथा स्वास्थ्य विभाग द्वारा दी गई दवाई के चलते गांव में हालात सामान्य दिखाई दे रहे है। मालूम हो कि मलवा विकासखंड क्षेत्र के चकमदा गांव में संक्रामक बीमारी के चलते 2 दर्जन से अधिक लोग बीमार हो गए थे। जिनमें कई लोग गंभीर बीमार थे। जिनको अस्पताल में भर्ती कराया गया था। यह बीमारी पिछले 10 दिनों से चली आ रही थी। लोगों ने इसकी जानकारी स्वास्थ्य विभाग तथा अन्य अधिकारियों को भी थी दी थी लेकिन जिम्मेदार नहीं चाहते थे। जिसके चलते संक्रामक बीमारी फैली जा रही थी। 
इस मामले की जानकारी जब मीडिया के लोगों को मिली तो मीडिया के लोग गांव पहुंचे और कवरेज किया जिसके बाद संक्रामक बीमारी की जानकारी स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के साथ अन्य जिम्मेदार लोगों को मिली जिसके चलते शनिवार को सुबह उपजिलाअधिकारी प्रमोद झा पहुंचे और हालात का जायजा लिया हालांकि हालात सामान्य देखकर उपजिलाधिकारी थोड़ी देर बाद वापस लौट गए। उन्होंने गांव में साफ सफाई के निर्देश दिए। सफाई कर्मचारियों से ठीक से सफाई करने को कहा। इसके अलावा स्वास्थ्य विभाग की टीम को भी लगा दिया। गांव में संक्रामक बीमारी फैले होने की जानकारी होने पर पूर्व शिक्षा मंत्री अमरजीत सिंह जनसेवक भी गांव पहुंचे। उन्होंने गांव के लोगों से बातचीत किया, हालात देखें इसके अलावा गांव में फैली गंदगी को भी उन्होंने देखा। 
पूर्व मंत्री जनसेवक ने मौके पर मौजूद स्वास्थ्य विभाग की टीम से स्पष्ट रूप से कहा कि हर हाल में बीमारी को जल्द दूर करना होगा। बीमारों को अच्छे से देख कर उनको बेहतर दवाई उपलब्ध कराई जाए। मौके पर मौजूद सफाई कर्मचारियों से कहा कि पूरे गांव की बेहतर ढंग से सफाई की जाए ताकि गंदगी दूर हो जाए और संक्रामक बीमारी जल्द काबू में आ जाए। पूर्व मंत्री के तेवर देख मौजूद अधिकारी सकते में आ गए। गांव में फिलहाल संक्रामक बीमारी स्थिर है कोई नया मरीज बीमार नहीं मिला है, जो कुछ मरीज है वह धीरे-धीरे स्वस्थ हो रहे हैं। शनिवार को कोई बीमार घर में पड़ा नहीं मिला हालांकि ग्रामीणों की मानें तो कई लोगों को अभी भी हल्का बुखार है। धीरे धीरे हालात सामान्य होते जा रहे हैं। बहरहाल प्रशासन की सतर्कता के चलते हालात ज्यादा गड़बड़ नहीं हुए और धीरे-धीरे हालात काबू में आते जा रहे हैं।


 


Popular posts from this blog

स्वरोजगारपरक योजनाओं के अंतर्गत ऑनलाइन ऋण वितरण मेले का किया गया आयोजन

भारत विदेश नीति के कारण वैश्विक शक्ति बनेगा।

बांसडीह में जाति प्रमाण पत्र बनाने को लेकर दर्जनों लोगों ने एसडीएम को सौपा ज्ञापन