योगी सरकार ने पेश किया 13,594 करोड़ रुपये का अनुपूरक बजट

 
लखनऊ।


उत्तर प्रदेश सरकार के वित्त मंत्री राजेश अग्रवाल ने आज विधानमंडल में वित्तीय वर्ष 2019-2020 का पहला अनुपूरक बजट पेश किया। यह बजट 13,594 करोड़ रुपये का प्रस्तावित है। इस बार का अनुपूरक बजट पिछले दो वित्त वर्षो से बड़ा है। वित्तीय वर्ष 2017-18 के लिए सरकार का पहला अनुपूरक बजट 11,388 करोड़ रुपये का था। इसके बाद वित्तीय वर्ष 2018-19 के लिए दूसरा अनुपूरक बजट 8,054 करोड़ रुपये का पेश किया गया था। योगी सरकार का यह तीसरा अनुपूरक बजट है। यह अनुपूरक बजट वित्तीय वर्ष 2019-20 के लिए पेश किया गया है। 


वित्त मंत्री राजेश अग्रवाल की ओर से सदन में पेश किए गए बजट में नगर विकास के लिए कुल 2,175.46 करोड़ रुपये स्वीकृत किए गए हैं। इसमें राज्यपोषित स्मार्ट सिटी के लिए 175 करोड़, कुम्भ मेले के दायित्वों के भुगतान के लिए 349 करोड़, सीवरेज एवं जल निकासी हेतु 100 करोड़ रुपए तथा प्रत्येक जिला मुख्यालय में पाथवे, बेंच, जिम, पेयजल, योग एवं बाल क्रीड़ा की सुविधाओं से युक्त पार्क हेतु 60 करोड़ रुपए स्वीकृत किए गए हैं। प्रदेश अवस्थपना सुविधाओं के विकास के लिए कुल 2,093.98 करोड़ रुपए स्वीकृत किए गए हैं।


योगी सरकार ने पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे और बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे के लिए अतिरिक्त रुपये की व्यवस्था की है। इसमें पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे के लिए 850 करोड़ रुपये और बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे के लिए 1,150 करोड़ रुपये की अतिरिक्त व्यवस्था की गई है। इसके साथ ही प्रयागराज से मेरठ के लिए गंगा एक्सप्रेस-वे के डीपीआर के लिए 15 करोड़ रुपये स्वीकृत हुए हैं।


ऊर्जा क्षेत्र में वितरण एवं उत्पादन परियोजनाओं के लिए कुल 905.36 करोड़ रुपए स्वीकृत किए गए हैं। 


अनुपूरक बजट में पर्यटन विभाग के लिए कुल 163 करोड़ रुपए स्वीकृत किए गए हैं। सूचना एवं प्रसार के लिए पांच करोड़ तथा अयोध्या में दीपोत्सव के आयोजन के लिए छह करोड़ रुपए स्वीकृत किए गए हैं। इसके अलावा प्रदेश में विभिन्न पर्यटन स्थलों के विकास हेतु 100 करोड़ रुपए, जिला योजना के अंतर्गत प्रदेश के विभिन्न पर्यटन स्थलों के विकास के लिए पांच करोड़ रुपए, प्रदेश में इको टूरिज्म के विकास के लिए पांच करोड़ रुपए, मिजार्पुर में विंध्यवासिनी देवी धाम के पर्यटन विकास के लिए 10 करोड़ रुपए स्वीकृत किए गए हैं। चालू वित्त वर्ष के इस अनुपूरक बजट में उन्नाव में स्थित राजा राव राम बक्श सिंह पार्क में अवस्थापना सुविधाओं के विकास के लिए दो करोड़ रुपये स्वीकृत किए गए हैं।


होमगार्डस संगठन के अधिष्ठान मद तथा लोक सभा चुनावों में ड्यूटी करने वाले होमगार्डस की मजदूरी मद में 160 करोड़ रुपए तथा सचिवालय प्रशासन के लिए तीन करोड़ रुपए का प्रावधान किया गया है। इसके अलावा नई दिल्ली में प्रदेश सरकार का एकीकृत कार्यालय बनाने के लिए तीन करोड़ रुपए तथा सचिवालय में सीसीटीवी कैमरे एवं अन्य उपकरणों के लिए आठ करोड़ रुपये स्वीकृत किए गए हैं।


चिकित्सा शिक्षा विभाग के लिए 83.14 करोड़ रुपए की व्यवस्था की गयी है। इसमें लखनऊ स्थित पीजीआई में ट्रॉमा सेंटर के लिए 7.45 करोड़ रुपए, गोरखपुर मेडिकल कालेज 500 शैया वाले बाल रोग चिकित्सा संस्थान के लिए 10 करोड़ रुपए स्वीकृत किए गए हैं। 


योगी सरकार ने अपने अनुपूरक बजट में स्वास्थ्य सेवाओं में सुधार और नए मेडिकल कॉलेजों के लिए भी रुपये की व्यवस्था की है। अयोध्या, शाहजहांपुर और फिरोजाबाद जिला चिकित्सालय को उच्चीकृत कर मेडिकल कॉलेज की स्थापना के लिए पांच-पांच करोड़ रुपये की व्यवस्था की गई है। बलरामपुर में केजीएमयू के सेटेलाइट सेंटर में 300 शैया के अस्पताल के निर्माण के लिए 35 करोड़ रुपये और व्यवस्था की गई है।


हाथरस में नए जिला कारागार के निर्माण के लिए जमीन खरीदने के लिए 50.41 करोड़ रुपये दिये गए हैं। इसके अलावा केंद्रीय पुलिस बल और राज्य पुलिस बल के लिए भवन निर्माण को 50 करोड़ अतिरिक्त दिए गए हैं। नए जिलों में पुलिस लाइन के निर्माण के लिए 200 करोड़ आवंटित किए गए हैं। 


Popular posts from this blog

स्वरोजगारपरक योजनाओं के अंतर्गत ऑनलाइन ऋण वितरण मेले का किया गया आयोजन

भारत विदेश नीति के कारण वैश्विक शक्ति बनेगा।

मंत्र की उपयोगिता जांचें साधना से पहले