एलएमआरसी ने मेट्रो कॉरिडोर के निकट पतंग न उड़ाने के लिए चलाया जागरूकता अभियान

लखनऊ।


लखनऊ मेट्रो ने शनिवार को दुकानदारों और आम नागरिकों को मेट्रो कॉरिडोर के निकट पतंग उड़ाने से जुड़े ख़तरों के प्रति अवगत कराने के लिए जागरूकता अभियान चलाया। यह अभियान मुख्य सुरक्षा आयुक्त, एलएमआरसी, उमेश चंद्र श्रीवास्तव और उनकी टीम ने हुसैनगंज थाना पिलस की टीम के साथ मिलकर चलाया। इस अभियान का उद्देश्य चाइनीज मांझा की बिक्री पर रोकथाम के साथ-साथ मेट्रो कॉरिडोर के निकट पतंग उड़ाने से जुड़े ख़तरनाक नतीज़ों के प्रति लोगों को जागरूक करना था।
जगरूकता अभियान का संचालन सुरक्षा आयुक्त एलएमआरसी, उमेश चंद्र श्रीवास्तव, सुरक्षा आयुक्त एलएमआरसी, इंद्रजीत सिंह रावत, सुरक्षा अधिकारी जितेंद्र कौशल और सचिन सोनी ने उत्तर प्रदेश पुलिस की टीम के साथ मिलकर किया। अभियान के दौरान यह जानकारी हुई कि पतंगबाज़ों और पक्षियों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए दुकानदारों द्वारा चाइनीज मांझा और धातुनिर्मित धागों की बिक्री में कमी आई है। विक्रेताओं से इस अवसर पर अपने ग्राहकों को मेट्रो कॉरिडोर के निकट पतंग ना उड़ाने और उससे जुड़े ख़तरों के प्रति आगाह करने की अपील भी की गई।
मेट्रो कॉरीडोर के निकट पतंग उड़ाने से ना केवल मेट्रो सेवाएं बाधित होती हैं बल्कि यह पतंग उड़ाने वाले के लिए भी जानलेवा सिद्ध हो सकता है। धातुमिश्रित मांझा उपयोग करने के कारण वे 25000 वोल्ट विद्युत प्रवाह वाले ओवर हेड ईक्विपमेंट (ओएचई) के संपर्क में आ सकते हैं, जिससे करंट लगने के कारण उनकी जान जा सकती है। ओएचई ट्रिपिंग की घटनाओं के वजह से मेट्रो सेवाएं पूर्व में भी बाधित हुईं हैं। इन घटनाओं के जांच के बाद पता चला कि धातुनिर्मित धागे ओएचई में उलझ गए थे।
एलएमआरसी मेट्रो संपत्ति को नुकसान से बचाने के लिए तथा जनता की सुरक्षा और सहूलियत को मद्देनज़र रखते हुए समय-समय पर ऐसे अभियान चलाता रहा है।


Popular posts from this blog

स्वरोजगारपरक योजनाओं के अंतर्गत ऑनलाइन ऋण वितरण मेले का किया गया आयोजन

भारत विदेश नीति के कारण वैश्विक शक्ति बनेगा।

बांसडीह में जाति प्रमाण पत्र बनाने को लेकर दर्जनों लोगों ने एसडीएम को सौपा ज्ञापन