मेरा बेटा साइंस टीचर की तरह है: अक्षय


अक्षय कुमार स्टारर फिल्म 'मिशन मंगल' 15 अगस्त को रिलीज हो रही है। इसमें वो राकेश धवन नाम के वैज्ञानिक के किरदार में दिखाई देंगे। एक इंटरव्यू के दौरान उन्होंने खुलासा किया कि वो बेटे आरव को अपना साइंस टीचर मानते हैं। अक्षय की मानें तो उन्होंने जो कुछ किया है, उससे ज्यादा अलग और बड़ा जोखिम युवा पीढ़ी के सामने है। 


जब अक्षय से पूछा गया कि क्या वो साइंस और टेक्नोलॉजी के बारे में बेटे आरव के साथ डिस्कशन करते हैं? तो जवाब में उन्होंने कहा, "हम डिस्कस नहीं करते। वह मुझे चीजें बताता है। यह सीखने के अलग ही अनुभव है। मेरा बेटा मेरे लिए साइंस टीचर की तरह है।"


इंटरव्यू के दौरान अक्षय कुमार ने बचपन का एक दिलचस्प किस्सा भी सुनाया। वो कहते हैं कि उनके पिता ने बचपन में उन्हें एक रेडियो यह सोचकर गिफ्ट किया था कि वो एक वैज्ञानिक सफलता थी। लेकिन उन्होंने साइंस के एक एक्सपेरिमेंट के चलते उसे डैमेज कर दिया था। 


बकौल अक्षय, "उन्होंने वह शाइनी रेड ट्रांजिस्टर 175 रुपए में खरीदा था। तब मैं 5 साल का था। उस वक्त रेडियो बहुत बड़ी चीज हुआ करती थी। मैं उस पर गाने सुनता था।  कुछ दिनों बाद मैंने उन्हें (पिता को)  अपने द्वारा खोजा गया ब्लैक सर्जुलर ऑब्जेक्ट दिखाया। जब मैंने उसे अलमारी पर फेंका तो वह चिपक गया। उन्होंने कहा, 'वह चुम्बक है। तुम्हें कहां से मिला?' मैंने जवाब में कहा कि रेडियो से निकाला।"


'मिशन मंगल' सच्ची घटना पर बेस्ड फिल्म है। जगन शक्ति के डायरेक्शन में बनी इस फिल्म में अक्षय कुमार के अलावा विद्या बालन, सोनाक्षी सिन्हा, तापसी पन्नू, कीर्ति कुलहरी, नित्या मेनन और शरमन जोशी की भी अहम भूमिका है। फिल्म मंगल गृह पर भेजे गए भारत के पहले उपग्रह के लॉन्च की कहानी दिखाएगी। 


Popular posts from this blog

स्वरोजगारपरक योजनाओं के अंतर्गत ऑनलाइन ऋण वितरण मेले का किया गया आयोजन

भारत विदेश नीति के कारण वैश्विक शक्ति बनेगा।

बांसडीह में जाति प्रमाण पत्र बनाने को लेकर दर्जनों लोगों ने एसडीएम को सौपा ज्ञापन