02 अक्टूबर से 31 दिसम्बर के बीच जन-योजना अभियान का संचालन

ग्राम पंचायतों में कूड़े के ढेरों का निस्तारण, पॉलीथिन मुक्ति एवं साफ-सफाई के लिए निरन्तर कार्य किए जाने की आवश्यकता : निदेशक


लखनऊ।


निदेशक पंचायतीराज डॉ0 ब्रह्मदेव राम तिवारी ने कहा कि 'पंचायतों की कार्यप्रणाली के लिए सबसे अधिक आवश्यक है। पंचायत कार्यालय की उपलब्धता, जिससे जन कल्याणकारी समस्त योजनाओं को जन समुदाय तक पहॅुचाया जा सके तथा जन शिकायतों का निस्तारण शीघ्रता से किया जा सके। पंचायतों के अधिकतर कार्य ऑनलाइन किए जा रहे है इसलिए आवश्यक है कि पंचायतें कार्यो को समय से करना सुनिश्चित करें। ग्राम पंचायतों में कूड़े के ढेरों का निस्तारण, पॉलीथिन मुक्ति एवं साफ-सफाई के लिए निरन्तर कार्य किए जाने की आवश्यकता है।''
यह बातें डॉ0 ब्रह्म देव राम तिवारी, निदेशक, पंचायती राज विभाग ने जन-योजना अभियान, 2019 के लिए राज्य स्तर पर पंचायतीराज निदेशालय लखनऊ में आज आयोजित कार्यशाला में कही। उन्होंने कहा कि नियोजन को ग्राम पंचायत की कार्यप्रणाली का भाग बनाने के लिए पंचायती राज मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा 02 अक्तूबर से 31 दिसम्बर, 2019 के मध्य जन-योजना अभियान का संचालन किया जा रहा है। इस अभियान के दौरान, वित्तीय वर्ष 2020-21 की जी.पी.डी.पी. तैयार करने के लिए ग्राम सभा की न्यूनतम दो बैठकें आयोजित की जाएगी। उन्होंने बताया कि जन योजना अभियान के सम्बंध में मुख्य सचिव, उ0प्र0 शासन द्वारा 16 अगस्त, 2019 के निर्देशों के क्रम में जनपदों के अधिकारियों को निर्देशित किया गया है। जिसमें जिलाधिकारी की अध्यक्षता में जी.पी.डी.पी. की बैठक, मण्डल स्तर मीडिया कार्यशाला का आयोजन,  जनपद स्तर पर लाइन विभागों के अधिकारियों को नोडल अधिकारी के रूप में नामित करना,  ग्राम सभा के आयोजन का रोस्टर निर्गत करना,  फ्रंटलाइन वर्कर द्वारा विभागीय योजनाओं/गतिविधियों का प्रस्तुतीकरण, ग्राम पंचायत भवन/समुदायिक स्थल पर जन सूचना बोर्ड की स्थापना, ग्राम सभा की बैठक, फैसीलिटेटर रिपोर्ट एवं जन सूचना बोर्ड की फोटो को ग्राम संवाद एप जी0ओ0 टैग करना एवं हचकचण्दपबण्पद पर अपलोड करना, ग्राम सभा की फोटो ग्राफी एवं वीडियो ग्राफी को सुरक्षित रखना आदि गतिविधियां की जानी है।


Popular posts from this blog

स्वरोजगारपरक योजनाओं के अंतर्गत ऑनलाइन ऋण वितरण मेले का किया गया आयोजन

भारत विदेश नीति के कारण वैश्विक शक्ति बनेगा।

बांसडीह में जाति प्रमाण पत्र बनाने को लेकर दर्जनों लोगों ने एसडीएम को सौपा ज्ञापन