दुष्कर्म के आरोपी चिन्मयानंद को गिरफ्तार नहीं किया जा रहा : भाकपा

लखनऊ।


भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (भाकपा) ने उप्र सरकार पर कानून व्यवस्था को लेकर हमला बोला है। भाकपा का कहना है कि अदालत और एसआईटी के दखल के बाद भी दुष्कर्म के आरोपी चिन्मयानंद को गिरफ्तार नहीं किया जा रहा है। यह जनता और लोकतंत्र को कुचलने की उनकी साजिश है, जिसे कामयाब नहीं होने दिया जाएगा।
भाकपा राज्य सचिव डॉ. गिरीश ने कहा कि कोर्ट और एसआईटी के समक्ष पीड़िता द्वारा बयान दर्ज कराए जाने के बावजूद न तो संघी साधु चिन्मयानंद के खिलाफ अभी तक एफआईआर दर्ज हुई है और न अभी तक उसे गिरफ्तार किया गया है। उन्होंने कहा कि शासन-प्रशासन के दोगलेपन के चलते उप्र में दुधुमुंही बच्चियों तक के साथ दुष्कर्म की शर्मनाक वारदातें हो रही हैं। महिलाओं पर यौन हिंसा की वारदातों का कहर टूट रहा है। अल्पसंख्यकों पर भगवा गुंडे हमला बोल रहे हैं। हरदोई में दलित नौजवान को जिंदा जला दिया जाता है और सरकार मौन साधे बैठी रहती है।
डॉ. गिरीश ने कहा कि यह लव जेहाद पार्ट-2 है, जिसकी जद में अब दलित भी आ गए हैं। अपराधी सरेआम हत्या, लूट जैसे जघन्य अपराधों को अंजाम दे रहे हैं। सपा नेता आजम खां पर अब तक 83 फर्जी मुकदमे दर्ज कराए जा चुके हैं। बदले की भावना और शिक्षा को मिटाने के उद्देश्य से की गई इस कार्रवाई की भाकपा कड़े शब्दों में निंदा करती है। भाकपा को इस बात का भी अफसोस है कि उत्तर प्रदेश में जनाधार वाले विपक्षी दल या तो भयवश भाजपा के समक्ष सरेंडर कर चुके हैं या विरोध से कतरा रहे हैं। इससे निर्भय बनी सरकार लोकतंत्र का गला घोट रही है और प्रदेश असहनीय आपातकाल के दौर से गुजर रहा है।


 


Popular posts from this blog

स्वरोजगारपरक योजनाओं के अंतर्गत ऑनलाइन ऋण वितरण मेले का किया गया आयोजन

भारत विदेश नीति के कारण वैश्विक शक्ति बनेगा।

बांसडीह में जाति प्रमाण पत्र बनाने को लेकर दर्जनों लोगों ने एसडीएम को सौपा ज्ञापन