इमाम हुसैन अ.स. के किरदार को समझना पड़ेगा : मौलाना बिजनौरी

जौनपुर।


करंजाकला ब्लॉक के करंजाखुर्द गांव में दो मोहर्रम के जुलूस इमामबाड़ा सिप्ते हैदर मरहूम से बरामद हुआ जिसमें सोज़खानी नवाज़ हैदर व उनके हमनवा ने की।
मजलिस को मौलाना सलमान बिजनौरी ने खेताब किया। उन्होंने कहा कि हम लोगों को इमाम हुसैन अ0स0 के किरदार को जानना और समझना पड़ेगा कि दुनिया में इंसान होने का क्या असर छोड़ना चाहिए हमें मौला हुसैन अ0स0 ने कर्बला की जंग में हर किरदार को पूरी ईमानदारी से दिखाया और आज इस्लाम को उस किरदार से बहुत कुछ सीखने की ज़रूरत है। अपने 71 लोगों को कर्बला (इराक) के मैदान में अपने नाना रसूल स0व0 के दीन को बचाने के लिए एक अज़ीम शहादत दी जिसका अभी तक इस दुनिया में कोई शहादत नहीं दी और दुनिया को दिखाया की ज़रूरी नहीं है कि हम 71 कम लोग ज़ुल्म आतंक के खिलाफ आवाज़ न उठा पाएं और मौला हुसैन ने अपने 71 लोगों को लेकर कर्बला से इंसानियत और इस्लाम को एक नई  ज़िन्दगी दी। मजलिस के बाद इमामबारगाह से अलम ज़ुल्जनह अली असगर के झूले की शबीह बरामद हुई। जुलूस में बाहर से आई हुई अंजुमनों ने नौहाख्वानी की जुलूस को पूरे गांव में गश्त कराया गया। जुलूस में आए हुए लोगों ने नम आँखों से ज़ियारत किया। जुलूस के मुन्तज़मींन ने जुलूस में आए हुए सभी लोगों शुक्रिया अदा किया।


 


Popular posts from this blog

स्वरोजगारपरक योजनाओं के अंतर्गत ऑनलाइन ऋण वितरण मेले का किया गया आयोजन

भारत विदेश नीति के कारण वैश्विक शक्ति बनेगा।

बांसडीह में जाति प्रमाण पत्र बनाने को लेकर दर्जनों लोगों ने एसडीएम को सौपा ज्ञापन