सरकारी अदूरदर्शिता की देन है लखनऊ में जलभराव की समस्या : अखिलेश

लखनऊ।

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा है कि भाजपा राज में जनता को सिवाय तबाही और परेशानी के कुछ हासिल होने वाला नहीं है। प्रदेश में लगातार हो रही बरसात से जनजीवन अस्तव्यस्त और त्रस्त है। नदियां उफान पर हैं। खेत, गांव, मकान सब जलमग्न हैं। अब तक एक सैकड़ा मौतें हो चुकी हैं। सरकारी संवेदनहीनता के कारण कई जिलों में बाढ़ में फंसे लोगों तक न तो राहत पहुंच रही है और नहीं बचाव कार्य हो रहे हैं। आदमी ही नहीं पशुओं की जान भी खतरे में है।
अखिलेश ने आईपीएन को दिए अपने बयान में कहा कि ऐसा तो नहीं है कि प्रदेश में पहली बार बरसात हुई है। शासन-प्रशासन को सतर्कता बरतते हुए पहले ही आपदा प्रबंधन की तैयारी कर लेनी चाहिए थी, लेकिन भाजपा सरकार को तो जनसमस्याओं का ध्यान ही नहीं रहता है, उसको तो बस समाज को बांटने, नफरत फैलाने और किसी भी तरह वोट बटोरने की ही चिंता रहती है।
अखिलेश ने कहा कि राजधानी लखनऊ में जलभराव की समस्या सरकारी अदूरदर्शिता की देन है। पुराने लखनऊ में नारकीय स्थिति है। विधानभवन तक पानी का पहुंच जाना प्रशासनिक अक्षमता का घोतक है। बारिश में बदहाली का आलम यह है कि लखीमपुर खीरी में पेड़ गिरने से मंत्री जी तक रास्ते में फंस चुके हैं। रायबरेली में जलभराव से एनटीपीसी के प्लांट की एक यूनिट बंद हो गई जिससे विद्युत संकट हो गया।
अखिलेश ने कहा कि कई जिलों में नदियों के प्रचंड वेग के चलते सड़क, बांध, तटबंध कट गए है। गांव के गांव जलमग्न हो गए है। जो जहां है वहीं फंस गया है। जानवरों को चारा नहीं मिल रहा है। बीमारों को इलाज नहीं मिल रहा है। सैकड़ों घर गिर गए हैं। मलबे में दबकर कितनी ही जानें चली गई है। दर्जनों लोग घायल हैं।
अखिलेश ने कहा कि भाजपा सरकार अपने काहिलीपन से समय रहते बाढ़ की आपदा से बचाव की कोई कार्ययोजना पहले नहीं बना सकी। राहत कार्यों में विलम्ब अक्षम्य है। मृतक आश्रितों तथा घायलों को मुआवजा नहीं बंट रहा है। मुख्यमंत्री ने औपचारिकता निभाते हुए बाढ़ का हवाई सर्वेक्षण कर अपने कर्तव्य की इतिश्री कर ली है। वैसे उनका अब तक खास जोर उद्घाटन, भाषण और आश्वासन की हवाई खेती करने पर ही रहा है।
अखिलेश ने कहा कि प्रदेश की जनता के साथ ऐसी संवेदनाशून्य, जनविमुख और सिर्फ सत्ता उन्मुख राजनीति भाजपा के तथाकथित सन्यासी ही कर सकते है। जनता का सब्र जवाब देता जा रहा है। बस उसे समय का इंतजार है। भाजपा को जनता की नाराजगी की भारी कीमत चुकाने के लिए तैयार रहना चाहिए।


Popular posts from this blog

स्वरोजगारपरक योजनाओं के अंतर्गत ऑनलाइन ऋण वितरण मेले का किया गया आयोजन

भारत विदेश नीति के कारण वैश्विक शक्ति बनेगा।

बांसडीह में जाति प्रमाण पत्र बनाने को लेकर दर्जनों लोगों ने एसडीएम को सौपा ज्ञापन