स्पोर्ट्स कॉलेज की व्यवस्थाओं को बेहतर बनाया जाय : उपेन्द्र तिवारी


खेल राज्य मंत्री ने गुरू गोविन्द सिंह स्पोर्ट्स कॉलेज का किया औचक निरीक्षण
लखनऊ।


प्रदेश के खेल, युवा कल्याण एवं पंचायती राज राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) उपेन्द्र तिवारी ने आज यहां गुरू गोविन्द सिंह स्पोर्ट्स कॉलेज का औचक निरीक्षण किया। उन्होंने निरीक्षण के दौरान वहां की व्यवस्थाओं के प्रति अपनी नाराजगी जाहिर करते हुए उन्हें और बेहतर बनाने के निर्देश दिये। निरीक्षण में कक्षाओं में छात्रों की संख्या संतोषजनक नहीं पाई गयी। साथ ही बच्चों की कम उपस्थिति पर न तो प्रधानाचार्य और न ही अध्यापक संतोषजनक उत्तर दे पायें। मंत्री जी ने स्वयं उपस्थिति पंजिका का अवलोकन किया। इस स्थिति पर अप्रसन्नता व्यक्त करते हुए उन्होंने सम्बंधित के विरूद्ध नियमानुसार कार्यवाही किये जाने के निर्देश दिये। 
स्पोर्ट्स कॉलेज के औचक निरीक्षण में खेल राज्य मंत्री उपेन्द्र तिवारी ने पुस्तकालय में खेल का सामान बिखरा पाये जाने के सम्बंध में प्रधानाचार्य द्वारा उचित उत्तर न मिलने पर कड़ी नाराजगी व्यक्त की और उसे अन्यत्र जगह पर सुव्यवस्थित रूप से रखे जाने को कहा। निरीक्षण के दौरान शौचालय के दरवाजे भी टूटे पाये गये और सीसीटीवी कैमरे भी खराब पाये गये। उन्होंने कहा कि अतिशीघ्र ही सभी कमियों को दूर कर लिया जाय, अन्यथा संबंधित के विरूद्ध कड़ी कार्यवाही की जायेगी और किसी भी प्रकार की लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जायेगी। 
स्पोर्ट्स कॉलेज के अपरान्ह 12ः30 बजे हुए गहन औचक निरीक्षण के दौरान श्री उपेन्द्र तिवारी ने स्टेडियम, पुस्तकालय, छात्रावास, अतिथि रूम, मेस, पानी, शौचालय आदि सुविधाओं को बेहतर बनाने के निर्देश दिये। उन्होंने छात्रों के साथ बैठकर दोपहर का भोजन भी किया और भोजन की गुणवत्ता बढ़ाने को कहा। उन्होंने छात्रावास में जाकर बच्चों के रहने का प्रबन्ध भी देखा और बच्चों से व्यक्तिगत रूप से बात कर उनसे उनकी सुविधाएं व समस्याएं पूछीं। उन्होंने कॉलेज परिसर पर बन रहे इन्डोर साइकिल टै्रक ''बेलोड्रम'' का भी निरीक्षण किया और उसके बारे में पूरी जानकारी हासिल की। उन्होंने निर्माण कार्य की धीमी प्रगति तथा खराब गुणवत्ता की ईंटों के इस्तेमाल पर भी नाराजगी जाहिर की और तत्काल सुधार करने के निर्देश दिए।
इस अवसर पर खेल राज्य मंत्री ने कहा कि केन्द्र तथा राज्य सरकार द्वारा खेल को बढ़ावा देने के लिए अनेक योजनाएं व कार्यक्रम संचालित किये जा रहे हैं। खेल गतिविधियों को बढ़ावा देने तथा फिट इण्डिया जैसे महत्वपूर्ण अभियान में स्पोर्ट्स कॉलेजों की महत्वपूर्ण भूमिका होती है और इन संस्थाओं को अपनी भूमिका का निर्वहन निष्ठापूर्वक करना चाहिए। इसलिए यह आवश्यक है कि यहां के सभी छात्रों को उच्च स्तर की गुणवत्तापूर्ण सुविधाएं उपलब्ध करायी जाय ताकि उनका शारीरिक व मानसिक विकास समुचित रूप से हो सके और बच्चों की खेल प्रतिभा निखरकर सामने आ सके, और उ0प्र0 के बच्चे राष्ट्रीय व अन्तर्राष्ट्रीय खेल परिदृश्य पर प्रदेश का नाम रौशन कर सकें।



Popular posts from this blog

स्वरोजगारपरक योजनाओं के अंतर्गत ऑनलाइन ऋण वितरण मेले का किया गया आयोजन

भारत विदेश नीति के कारण वैश्विक शक्ति बनेगा।

मंत्र की उपयोगिता जांचें साधना से पहले