उद्यम समागम’ सह ’एक जनपद एक उत्पाद’ (जरी-जरदोजी) प्रदर्शनी आयोजित

नई उड़ान नई पहचान हेतु प्रदर्शनी में विभिन्न हस्तशिल्पियों द्वारा स्टाॅल लगाये गये


उन्नाव


जनपद उन्नाव में एम0एस0एम0ई0 विकास संस्थान कानपुर, जिला उद्योग एवं उद्योग प्रोत्साहन केन्द्र के तत्वाधान में आज 'उद्यम समागम' सह 'एक जनपद एक उत्पाद' (जरी-जरदोजी) दो दिवसीय प्रदर्शनी का आयोजन आज राजकीय इण्टर कालेज ग्राउण्ड में किया गया, जिसका उद्घाटन मा0 सदर विधायक श्री पंकज गुप्ता, मा0 मोहान विधायक श्री बृजेश रावत व जिलाधिकारी श्री देवेन्द्र कुमार पाण्डेय, मुख्य विकास अधिकारी/ओ0डी0ओ0पी0 नोडल अधिकारी श्री प्रेम रंजन सिंह द्वारा किया गया।
मा0 मोहान विधायक श्री बृजेश रावत ने कहा कि एक जनपद एक उत्पाद से मा0 प्रधानमंत्री जी व मा0 मुख्यमंत्री जी ने ही जरी-जरदोजी व हस्तशिल्पियों को बढ़ावा देने का कार्य किया है। इससे जनपद में बेरोजगारी दूर होगी ही साथ ही लोग रोजगार से जुड़कर स्वावलम्बी बनेंगे साथ ही हस्तशिल्पियों को भी बढ़ावा मिलेगा। उन्नाव के जरी-जरदोजी के कामगारों का वैभव देश ही नहीं बल्कि विदेशों तक पहुंचेगा।
इस अवसर पर मा0 सदर विधायक श्री पंकज गुप्ता ने कहा कि एक जनपद एक उत्पाद कार्यक्रम सरकार द्वारा पूरे प्रदेश में चलाया जा रहा है, छोट कारीगरों को बढ़ावा दिया जा रहा है। सरकार द्वारा अन्त्योदय पर बल दिया जा रहा है अर्थात समाज के अन्तिम श्रेणी के लोगों को लाभ मिले इसी तरह से जरी-जरदोजी में पहल की गई है कि छोटे से छोटे कारीगर उद्योग से जुड़कर कार्य करें और अपनी आर्थिक स्थिति ठीक करें। श्री पंकज ने इस अवसर पर उपस्थित सभी लोगों को प्रदूषण नियन्त्रण हेतु पाॅलिथिन का प्रयोग रोकने की शपथ दिलाई गई।  
इस अवसर पर जिलाधिकारी ने कहा कि प्रदेश सरकार की मंशा है कि हर जनपद का उद्यमी स्वावलम्बी बने। इसलिये जनपद में एक जनपद एक उत्पाद के तहत जरी-जरदोजी व हस्तशिल्पियों की कला को बढ़ाने के उद्देश्य से इस प्रदर्शनी का आयोजन किया गया है। इसमें विभिन्न उद्योगों से
जुड़े उद्यमी  व छोटे से छोटे हस्तशिल्पकारों ने इसमें भाग लेकर प्रदेश सरकार द्वारा चलाई जा रही जरी-जरदोजी व अन्य उद्योग को सरकार द्वारा दिये जा रहे विभिन्न लाभों से लाभान्वित होंगे। प्रदेश सरकार जरी-जरदोजी व हस्तशिल्पियों को कच्चा माल लेने के लिये जनपद से बाहर नहीं जाना पड़ेगा जबकि अब काॅमन फेसेलिटीज सेन्टर मियागंज व उन्नाव में ही व्यवस्था की गई है। उन्होंने कहा कि सरकार 75 प्रतिशत का अनुदान देगी। ओ0डी0ओ0पी0 से जोड़ने का जो भी पैसा होगा उसमें भी उद्यमियों को 75 प्रतिशत सरकार द्वारा अनुदान दिया जायेगा।
भारत सरकार व उ0प्र0 सरकार हस्तशिल्पियों को रोजगार से जोड़ने व बढ़ावा देने हेतु प्रदेश के हर जनपद में उद्यम समागम सह एक जनपद एक उत्पाद जैसे कार्यक्रम करा रही है। इस प्रदर्शनी का मुख्य उद्देश्य समाज के अन्तिम छोर पर बैठे व्यक्ति को रोजगार से जोड़ने उसे मजबूत करने तथा छोटे-छोटे हस्तशिल्पियों को जोड़ने का कार्य करना है ताकि वे स्वावलम्बी बन स्वंय का भरण पोषण कर सके। यह वक्तव्य संयुक्त निदेशक उद्योग श्री सुनील कुमार ने कहे। उन्होंने कहा कि  इस उद्यम का यह भी उद्देश्य है कि जनपद के समस्त हस्तकरघा/हस्तशिल्पी को इस तरह के कार्यक्रमों का आयोजन कर उन्हंे रोजगार से जोड़ने, बैंकिंग सुविधा लाभ दिलाने की जानकारी प्राप्त कर वह अपनी कला को आगे बढ़ा सकें। ताकि हस्तशिल्पियों का पलायन रोका जा सके और जनपद में कई नये-नये हस्तशिल्पियों की पहचान बने। इस निमित्त भारत सरकार व उ0प्र0 सरकार द्वारा 24 जनवरी 2018 को ओ0डी0ओ0पी0 एक जनपद एक उत्पाद योजना का शुरूआत की गई है। उन्होंने कहा कि यहां लेदर में लगे उद्यमी देश ही नहीं बल्की योरोपियन मार्केट में भी इनके उत्पादों की डिमान्ड है, जरी-जरदोजी को लेदर के उत्पादों के साथ जोड़कर कार्य करने की भी बात कही जिसकी मांग योरोप में बहुत है, जनपद में लेदर उद्यमी को जरी-जरदोजी से जोड़ने पर बढ़ावा मिलेगा। इस अवसर पर एम0एस0एम0ई0 के निदेशक, कानपुर ने भी अपने विचार व्यक्त किये।  
मुख्य विकास अधिकारी/ओ0डी0ओ0पी0 नोडल अधिकारी श्री प्रेम रंजन सिंह ने कहा कि जनपद के उद्यमियों को इस प्रदर्शनी के माध्यम से इनपुट लेकर अपना कार्य करें। उन्हें जनपद में काॅमन फेसल्टी माध्यम से कच्चे माल की उपलब्धता, मार्केटिंग आदि की सुविधा की जानकारी प्राप्त होगी। बैंकों में आने वाली परेशानियों को पूरी तरह से दूर किया जा रहा है, जिससे वे सीधे बैंक से जुड़कर लाभ प्राप्त कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि इस दो दिवसीय प्रदर्शनी में उद्योगों से जुड़े विषयों पर तकनीकी सत्र के माध्यम से लाभ प्राप्त करेंगे। इस कार्यक्रम में उन्नाव औद्योगिक परिदृश्य की व्यापक ब्राडिंग का लाभ प्राप्त करें तथा बायर सेलर मीट के माध्यम से भी उद्योग से जुड़े उद्यमियों की समस्याये ंतो दूर होंगी ही साथ ही छोटे व नये हस्तशिल्पियों को भी लाभ प्राप्त होगा।
इस कार्यक्रम में आये हुये घुड़ सवारी के सामान/ चमड़े की बनी सामग्री का विदेशों में निर्यात करने वाले उद्यमी श्री ताज आलम को प्रतीक चिन्ह देकर सम्मानित किया व उद्यमी जे0एन0 मिश्रा को भी सम्मानित किया गया तथा जाहिरा जी जिन्होंने लगभग 20 हजार महिलाओं को जरी-जरदोजी से जोड़ने हेतु उन्हें भी सम्मानित किया गया। विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना के 18 हस्तशिल्पियों को टूल किट वितरित किया गया। जिसमें शबनम साही व अन्य लोगों को भी इस अवसर पर सम्मानित किया गया। कार्यक्रम में कन्या भ्रूण हत्या व महिलाओं की सुरक्षा सम्बन्धी नुक्कड़ नाटक का मंचन किया गया व स्कूली बच्चों द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किये गये तथा सूचना विभाग द्वारा एल0ई0डी0 वैन के माध्यम से प्रदेश सरकार के ढ़ाई वर्ष पूरे होने की उपलब्धियों के बारे में लोगों को जानकारी दी गई। इस अवसर पर ग्राम्य विकास, यू0डी0ए0, डूडा, कृषि, मत्स्य, नेडा, खादी ग्रामोद्योग, बैंकों आदि विभागों द्वारा स्टाॅल लगाकर प्रतिभाग किया गया। इस अवसर पर द्वितीय तकनीकी सत्र तथा वित्तीय सत्र की चर्चा की गई, जिसमें फिडरेशन ऑफ इंडियन एक्सपोर्ट आर्गेनाइजेशन, कानपुर से श्री वाई0एस0 गर्ग जी का निर्यात विषय पर संबोधन किया एवं अग्रणी जिला प्रबंधक, बैंक ऑफ इंडिया द्वारा विभागों की योजनाओं के संबंध में जानकारी दी गई। ओ0डी0ओ0पी0 सेल नैबकाॅन्स/नाबार्ड, लखनऊ द्वारा विभागों की योजनाओं के सम्बन्ध में जानकारी दी गई। तकनीकी सत्र उद्यम समागम कार्यक्रम में डी0आई0 उपनिदेशक, एम0एस0एम0ई0 श्री अजय बाजपेई जी का उद्योग के संबंध में जानकारी प्रदान की गई एवं उपायुक्त, राष्ट्रीय आजीविका मिशन द्वारा विभागों की योजनाओं के संबंध में जानकारी प्रदान की गई। इस अवसर पर बड़ी संख्या में जरी-जरदोजी से जुडें कामगारों सहित सम्बन्धित जिला स्तरीय अधिकारी आदि उपस्थित थे। कार्यक्रम का आयोजन उपायुक्त उद्योग श्रीमती सविता भारती  द्वारा किया गया। अन्त में उन्होंने भी अपने वक्तव्य के साथ कार्यक्रम का समापन करते हुये उन्होंने कहा कि यह कार्यकम कल भी चलेगा।


Popular posts from this blog

स्वरोजगारपरक योजनाओं के अंतर्गत ऑनलाइन ऋण वितरण मेले का किया गया आयोजन

भारत विदेश नीति के कारण वैश्विक शक्ति बनेगा।

बांसडीह में जाति प्रमाण पत्र बनाने को लेकर दर्जनों लोगों ने एसडीएम को सौपा ज्ञापन