चर्च में विस्फोट करने वाले दो बदमाश गिरफ्तार

लखीमपुर खीरी।


शहर में पुराने एसपी बंगला के सामने स्थित चर्च में 17  सितंबर को हुए धमाके में पुलिस ने दो लोगों को गिरफ्तार किया है। जिन्हें पुलिस ने सोमवार को जेल भेज दिया। यह जानकारी एसपी खीरी पूनम ने प्रेस वार्ता के दौरान दी। उन्होंने बताया कि रविवार की रात कोतवाली पुलिस ने जेल चौकी क्षेत्र के अंतर्गत ग्राम सलेमपुर कोन से रामलाल पुत्र रामअवतार निवासी सिसैया कला थाना धौरहरा व सज्जन अली पुत्र माशूक अली निवासी नरसिंहपुर थाना निघासन को गिरफ्तार किया। पुलिस ने पकड़े गए अभियुक्तों के पास से अवैध असलहे व कारतूस भी बरामद किए हैं। पुलिस द्वारा कड़ाई से की गई पूछताछ मे पकड़े गए अभियुक्तों ने 17 सितंबर 2016 को चर्च में घटी विस्पोट की घटना को स्वीकार करते हुए उन्होंने बताया कि उनका एक गिरोह है। जिसमें कमरुद्दीन उर्फ कमरू व गुड्डू निवासी बहराइच, जामिल पुत्र अमीन निवासी सिसैया कला थाना धौरहरा व अफजल निवासी लखीमपुर शामिल है। हम लोग मिलकर शहर व आसपास के अन्य कस्बों में जाकर इस तरह की घटनाओं को अंजाम देते हैं। जिसके एवज में हमे मोटी रकम मिलती है। घटना को अंजाम देने के बाद वह नेपाल भाग जाते हैं। उस घटना को भी हम सभी ने मिलकर अंजाम दिया था। उन्हें इस घटना को अंजाम देने हेतु कमरुद्दीन, गुड्डू, व जामिल द्वारा 2 लाख रुपये देने को कहा गया था। लेकिन उन्हें सिर्फ 7 हजार रुपये ही मिले थे। इसके बाद उन लोगों से इनका कोई संपर्क नही हो पाया। बीती रात भी यह लोग किसी अन्य घटना को अंजाम देने की कोशिश में थे। जिन्हें पुलिस ने धर दबोचा।
पुलिस टीम मे जेल चौकी इंचार्ज जयप्रकाश यादव, क्राइम ब्रांच इंचार्ज से उप निरीक्षक अनिल सिंह, उप निरीक्षक सर्वेश पाल कां. विजय शर्मा, कां. अरविंद कुमार, कां. अजीत सिंह, कां. अजीत यादव, कां. कुलदीप कुमार, कां. परीक्षित चौरसिया, कां. योगेश तोमर, कां. पुनीत यादव, कां. शराफत अली मौजूद रहे।


चर्च की जमीन को लेकर भाजपा नेताओं में है विवाद
चर्च की करीब 4 एकड़ जमीन लंबे समय से विवाद में फंसी हुई है। इस जमीन पर दो भाजपा नेता आपस में भिड़े हुए हैं। जिसे लेकर दीवानी न्यायालय में मामला विचाराधीन भी है। आशंका जताई जा रही है कि यह घटना भी इसी विवाद से जुड़ी हुई हो सकती है।


 


Popular posts from this blog

स्वरोजगारपरक योजनाओं के अंतर्गत ऑनलाइन ऋण वितरण मेले का किया गया आयोजन

मंत्र की उपयोगिता जांचें साधना से पहले

’’पवन गुरू, पानी पिता, माता धरति महत’’ को अपने जीवन का अंग बनायें : स्वामी चिदानन्द सरस्वती