डाक टिकटों के माध्यम से विश्व में बढ़ रही गाँधी जी की विरासत : उप मुख्यमंत्री

लखनऊ।


महात्मा गाँधी विश्व के उन महान नेताओं में शामिल हैं जिन्होंने अपने विचार और कर्म से पूरी दुनिया का ध्यान अपनी ओर आकर्षित किया। दुनिया के तमाम देशों ने बापू की 150वीं जयंती पर डाक टिकट जारी करके उनकी विरासत व मूल्यों को  आगे बढ़ाने का कार्य किया है। गाँधी जी पर जारी डाक टिकटों के माध्यम से युवा पीढ़ी उनके व्यक्तित्व के तमाम आयामों से रूबरू हो प्रेरणा पा रही है। यह विचार प्रदेश के उप मुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा ने आज यहां जीपीओ में आयोजित तीन दिवसीय गाँधी डाक टिकट प्रदर्शनी 'अहिंसापेक्स-2019' के समापन समारोह में बतौर मुख्य अतिथि व्यक्त किये। डॉ0 शर्मा ने इस अवसर पर उत्तर प्रदेश के चीफ पोस्टमास्टर जनरल कौशलेन्द्र कुमार सिन्हा और निदेशक डाक सेवाएं श्री कृष्ण कुमार यादव के साथ महात्मा गाँधी के चारबाग, लखनऊ में प्रथम आगमन और स्वच्छता ही सेवा (एक कदम प्लास्टिक मुक्त भारत की ओर) पर विशेष आवरण व विरूपण भी जारी किया, तथा फिलेटली और अन्य प्रतियोगिता के विजेताओं को सम्मानित भी किया।
डॉ दिनेश शर्मा ने कहा कि, अहिंसा को परम धर्म मानते हुए गाँधी जी ने शांति, बंधुत्व, सहिष्णुता, विकास और एकता पर जोर दिया। समाज के हर वर्ग के प्रति उनकी संवेदना में सर्वहित की भावना झलकती है। उन्होंने समावेशी विकास पर भी जोर दिया। उन्होंने कहा कि श्स्वच्छता ही सेवाश् के प्रति लोगों को जागरूक करके सरकार गाँधी जी के विचारों को मूर्त रुप दे रही है।
इस अवसर पर उत्तर प्रदेश परिमण्डल के चीफ पोस्टमास्टर जनरल श्री कौशलेन्द्र कुमार सिन्हा ने कहा कि, गाँधी जी का जीवन दर्शन समग्रता और समता का जीवन दर्शन है। समाज में सकारात्मक बदलाव के लिए गाँधी जी के विचार आवश्यक हैं।
लखनऊ मुख्यालय परिक्षेत्र के निदेशक डाक सेवाएँकृष्ण कुमार यादव ने कहा कि, गाँधी जी पर जारी  डाक टिकट पूरी दुनिया में घूमते हुए उनके विचारों व संदेशों का प्रसार कर रहे हैं। पीढ़ी दर पीढ़ी ये डाक टिकट बापू की सोच को नवाचार के साथ प्रस्तुत करते हैं।


Popular posts from this blog

स्वरोजगारपरक योजनाओं के अंतर्गत ऑनलाइन ऋण वितरण मेले का किया गया आयोजन

भारत विदेश नीति के कारण वैश्विक शक्ति बनेगा।

मंत्र की उपयोगिता जांचें साधना से पहले