देश-प्रदेश में मंहगाई चरम पर: पटेल

बलात्कार, हत्या, लूट की घटनाएं थम नहीं रही: सुनील लाला
लखीमपुर खीरी।


समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव के निर्देशन पर गूंगी-बहरी भाजपा सरकार को जगाने के लिए जनसमस्याओं से सम्बन्धित 11-सूत्रीय मांगो को लेकर प्रत्येक जनपद में तहसील स्तर पर समाजवादी पार्टी द्वारा धरना देने के क्रम में मितौली तहसील में पूर्व विधायन सुनील लाला के नेतृत्व में एवं पूर्व जिलाध्यक्ष अनुराग पटेल की अध्यक्षता में धरना प्रर्दशन किया गया। तहसील मितौली में समाजवादी पार्टी ने आम आदमी की रोजमर्रा चीजो की लगातार बढ़ती मंहगाई, भ्रष्टाचार, किसानों की बदहाली, नौजवानों की बेरोजगारी, ध्वस्त कानून व्यवस्था, बिजली की दरों में भारी बढ़ोत्तरी तथा अनुसूचित छात्रो को मिलने वाली छा़त्रवृत्ति रोकने, पूर्व मंत्री एंव सांसद मोहम्मद आजम खां और उनके द्वारा स्थापित अली जौहर विश्वविद्यालय के विरूद्ध बदले की कार्यवाही विरोध में धरना प्रर्दशन कर महामहिम राज्यपाल महोदय को संबोधित ज्ञापन उपजिलाधिकारी मितौली को सौंपा।
कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुये पूर्व जिलाध्यक्ष अनुराग पटेल ने कहाकि उत्तर प्रदेश में विकास कार्य बंद है, देश-प्रदेश में मंहगाई चरम पर है, किसान आज भी कर्ज के बोझ से दबकर आत्महत्या कर रहा है। नौजवानों के सामने धुंधला भविष्य है, उद्योग धंधे बंद हो रहे हैं, कानून व्यवस्था ध्वस्त है। पूर्व विधायक सुनील लाला ने कहाकि बलात्कार, हत्या, लूट की घटनाएं थम नहीं रही है, अल्पसंख्यकों की स्थिति दयनीय है, शाहजहांपुर में पीड़िता न्याय के लिए गुहार लगा रही है उल्टे उसे ही जेल भेज दिया गया है तथा आरोपी को रियायतें दी जा रही हैं। भाजपा सरकार इंसाफ की आवाज दबा रही है। साथ ही उन्होने कहाकि ग्राम मितौली के संजय कुमार पुत्र संतोष कुमार को पुलिस द्वारा झूठे मुकदमें में फंसाकर जेल भेजा गया है जिनकी निष्पक्ष जांच की मांग समाजवादी पार्टी करती है।
धरने में मुख्य रूप से जिला पंचायत सदस्य सर्वेश भदौरिया, जिला पंचायत प्रतिनिधी संदीप वर्मा, जकी उल्ला खां, अभय सिंह आशू, उमाशंकर वर्मा पिपरिया, उपदेश वर्मा, अन्नू वर्मा, संजय वर्मा समेत सैकडो की संख्या में कार्यकर्ता ने प्रदेश सरकार के खिलाफ प्रर्दशन में भाग लिया।





 




Popular posts from this blog

स्वरोजगारपरक योजनाओं के अंतर्गत ऑनलाइन ऋण वितरण मेले का किया गया आयोजन

मंत्र की उपयोगिता जांचें साधना से पहले

’’पवन गुरू, पानी पिता, माता धरति महत’’ को अपने जीवन का अंग बनायें : स्वामी चिदानन्द सरस्वती