एसएनसीयू में नवजात शिशुओं का हो रहा है निःशुल्क इलाज

मऊ।


जिला महिला अस्पताल में स्थापित सिक न्यूबोर्न केयर यूनिट (एसएनसीयू) में कम वजन के जन्में या किसी गंभीर बीमारी जैसे पीलिया, निमोनिया आदि से ग्रसित नवजात शिशुओं का निःशुल्क इलाज किया जा रहा है। एसएनसीयू में निःशुल्क दवा मिलना, डॉक्टर द्वारा समय पर इलाज व सम्पूर्ण देखभाल की सुविधा मिल रही है। इसके लिए शिशु रोग विशेषज्ञों की नियुक्ति की गई है।
इस संदर्भ में सीएमएस डॉ आरके गुप्ता ने बताया जिला महिला अस्पताल मऊ में महिला एवं प्रसूति रोग विभाग में सिक न्यू बोर्न केयर यूनिट की स्थापना हुई है। इसमें गंभीर रूप से बीमार नवजात शिशुओं का इलाज किया जाता है। यहां आधुनिक वैज्ञानिक उपकरण हैं तथा इलाज के दौरान नवजात शिशुओं की देखभाल बहुत जरूरी होती है।
उन्होंने बताया कि एक महीने तक शिशु को सबसे ज्यादा गंभीर बीमारी का खतरा रहता है। चिकित्सीय देखभाल में जरा सी लापरवाही बच्चों पर भारी साबित होती है। इस तरह के इलाज में बाहर एक दिन का खर्च आठ हजार से पंद्रह हजार आता है लेकिन एसएनसीयू में पूरी तरह से निःशुल्क है। इस यूनिट में रेडियंट वार्मर, फोटो थैरेपी यूनिट, वेंटिलेटर सहित कई प्रकार के आधुनिक तकनीक उपकरण स्थापित हैं। महिला अस्पताल में तीन शिशु रोग विशेषज्ञों को नियुक्त किया गया है। सिफ्ट में कार्य करने के लिये अलग से एसएनसीयू स्टाफ हैं जो 24 घंटे भर्ती बच्चों की देखभाल करता है। यहां पर अन्य जिलों व निजी चिकित्सालयों से रेफर बच्चों का भी इलाज होता है। अप्रैल 2019 से 20 सितम्बर 2019 तक प्राइवेट अस्पतालों से रेफर होकर आये 147 गम्भीर बच्चों को निःशुल्क इलाज किया गया वहीं जिला महिला अस्पताल में जन्मे 124 बच्चों को निःशुल्क इलाज की सुविधा मिली है।
जिला महिला अस्पताल के शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ सुरेंद्र राय ने बताया कि पूरे पूर्वांचल की यह अबतक की सबसे आधुनिक एसएनसीयू यूनिट स्थापित है। इसका लाभ समाज का अमीर-गरीब हर वर्ग निःशुल्क प्राप्त कर सकता है। यहाँ कुछ दिनों पहले दो नवजात शिशुओं को वजन में कमी होने के कारण भर्ती किया गया लेकिन कुछ दिन निःशुल्क इलाज करने के बाद वह पूर्ण रूप से ठीक हो गए।


Popular posts from this blog

स्वरोजगारपरक योजनाओं के अंतर्गत ऑनलाइन ऋण वितरण मेले का किया गया आयोजन

भारत विदेश नीति के कारण वैश्विक शक्ति बनेगा।

बांसडीह में जाति प्रमाण पत्र बनाने को लेकर दर्जनों लोगों ने एसडीएम को सौपा ज्ञापन