जौनपुर के नखास स्थित विसर्जन घाट पर बने शक्ति कुण्ड के टूटने से बहतीं प्रतिमाएं।

आदि शक्ति मां दुर्गा सहित अन्य की प्रतिमाएं जयघोष के बीच विसर्जित
डीएम-एसपी ने शोभायात्रा का किया शुभारम्भ, भक्तिमय रहा नगर
जौनपुर।


जय माता दी, सच्चे दरबार की जय सहित अन्य जयघोष के बीच आदि शक्ति मां दुर्गा सहित अन्य देवी-देवताओं की प्रतिमाएं गोमती नदी के तट पर बने शक्ति कुण्ड में विसर्जित कर दी गयीं।
नगर के नखास स्थित विसर्जन घाट पर बने कुण्ड में शोभायात्रा की पहली प्रतिमा बीती रात लगभग साढ़े 12 बजे विसर्जित हुईं जहां विसर्जन का सिलसिला बुधवार की देर शाम तक चलता रहा। इसके पहले सभी प्रतिमाएं अहियापुर मोड़ पर पहुंचकर शोभायात्रा के रूप में खड़ी हो गयीं जिसका उद्घाटन परम्परागतानुसार जिलाधिकारी अरविन्द मलप्पा बंगारी एवं आरक्षी अधीक्षक रविशंकर छवि ने पूजन-अर्चन के साथ माता रानी की आरती उतारी। तत्पश्चात् नारियल फोड़ने के साथ ही हरी झण्डी दिखाकर शोभायात्रा को रवाना किया जो सुतहट्टी बाजार, सब्जी मण्डी होते हुये कोतवाली चौराहे पर नियंत्रण कक्ष तक पहुंचे। यहां से पूरे मेले का संचालन सुशील वर्मा एडवोकेट एवं दयाराम गुप्ता द्वारा संयुक्त रूप से किया गया। वहीं नियंत्रण कक्ष पर बने निर्णायक मण्डल के सदस्यों द्वारा शोभायात्रा की सजावट का अवलोकन किया गया जहां संरक्षक मण्डल के सदस्य महंथ सूर्य प्रकाश जायसवाल, विनोद जायसवाल, इन्द्रभान सिंह सहित तमाम गणमान्य लोग मौजूद रहे। अध्यक्ष विजय सिंह बागी एवं महासचिव अनिल साहू के संयुक्त नेतृत्व में चल रही शोभायात्रा में विशिष्ट सदस्य निखिलेश सिंह, शशांक सिंह रानू, मनीषदेव, राधेकृष्ण ओझा, मनीष गुप्ता, आनन्द अग्रहरि सहित तमाम लोग सहयोग दे रहे थे। नगर भ्रमण करते हुये शोभायात्रा नखास के विसर्जन घाट पर बने शक्ति कुण्ड पर पहुंची जहां लालचन्द्र निषाद, राम आसरे निषाद, संजय विश्वकर्मा, राम प्रसाद निषाद, योगेश निषाद सहित तमाम लोगों की मदद से प्रतिमाओं का विसर्जन किया गया। यहां नियंत्रण कक्ष से विसर्जन कार्यक्रम का संचालन राजदेव यादव व अनिल निगम ने संयुक्त रूप से किया।


Popular posts from this blog

स्वरोजगारपरक योजनाओं के अंतर्गत ऑनलाइन ऋण वितरण मेले का किया गया आयोजन

भारत विदेश नीति के कारण वैश्विक शक्ति बनेगा।

मंत्र की उपयोगिता जांचें साधना से पहले