किसानों को संतुलित उर्वरकों के प्रयोग एवं जागरूक करने के लिए जिले की 166 न्यायपंचातयों में लगी चौपाल

गोण्डा।

जिलाधिकारी डा0 नितिन बंसल के निर्देश पर जिले की सभी 166 न्याय पंचायतों में संतुलित उर्वरकों के प्रयोग के संबंध में कृषि विभाग द्वारा मेला एवं गोष्ठी का आयोजन किया गया जिसमें किसानों को संतुलित उर्वरकों के प्रयोग एवं तकनीकी खेती के बारे में जानाकारी दी गई।
जिला कृषि अधिकारी जेपी यादव ने बताया कि कृषि विभाग के समस्त कर्मचारियों एडीओ एजी, प्राविधिक सहायकों, बीटीएम एवं एटीएम आदि के द्वारा न्याय पंचायत स्तर पर गोष्ठी का आयोजन कराया गया तथा किसानों को संतुलित उर्वरक प्रयोग के संबंध में जानकारी दी गई। जिलाधिकारी ने जनपद स्तर से गोष्ठी की समीक्षा के लिए नोडल अधिकारियों को जिम्मेदारी देते हुए उप कृषि निदेशक डॉ मुकुल तिवारी को मनकापुर तहसील एवं भूमि संरक्षण अधिकारी सदानंद चैधरी को तरबगंज तहसील तथा जिला कृषि अधिकारी जेपी यादव को सदर एवं करनैलगंज का प्रभारी बनाया गया था। पर्यवेक्षणीय अधिकारियों द्वारा न्याय पंचायत स्तरीय गोष्ठी में प्रतिभाग करते हुए किसानों को संतुलित उर्वरक के बारे में समुचित जानकारी दी गई।
जिला कृषि अधिकारी द्वारा कर्नलगंज तहसील के पिपरी कान्धीपुर में मृदा स्वास्थ्य कार्ड का वितरण भी किया गया तथा किसानों को जैविक उर्वरकों जैसे जैविक खाद, हरी खाद,वर्मी कंपोस्ट, नैडप कंपोस्ट आदि को भी किसानों द्वारा खेत में प्रयोग किए जाने के लिए प्रोत्साहित किया गया तथा तकनीकी जानकारियां भी दी गईं हमारी मृदा के स्वास्थ्य को बिगड़ने से रोका जा सके। उन्होंने गोष्ठी में मौजूद रहे किसानों से अपील की गई कि वे रासायनिक उर्वरकों का प्रयोग मृदा परीक्षण कराने के उपरांत ही करें जो संस्तुति मृदा परीक्षण लैब द्वारा की जाती है उसी के आधार पर रासायनिक उर्वरकों का प्रयोग किया जाए। संतुलित मात्रा में उर्वरकों के प्रयोग से किसान भाइयों की उत्पादन के साथ-साथ लागत में भी कमी आएगी। जिससे माननीय प्रधानमंत्री जी के 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने के सपने को भी साकार करने में मदद मिलेगी।


Popular posts from this blog

स्वरोजगारपरक योजनाओं के अंतर्गत ऑनलाइन ऋण वितरण मेले का किया गया आयोजन

मंत्र की उपयोगिता जांचें साधना से पहले

’’पवन गुरू, पानी पिता, माता धरति महत’’ को अपने जीवन का अंग बनायें : स्वामी चिदानन्द सरस्वती