मुख्यमंत्री 25 को कन्या सुमंगला योजना का लखनऊ में करेगें शुभारम्भ

जिला मुख्यालय व सभी ब्लाक मुख्यालयों पर कार्यक्रम का होगा सजीव प्रसारण
गोण्डा।


प्रदेश सरकार द्वारा महिला सशक्तिकरण के क्षेत्र में कन्या सुमंगला योजना के रूप में एक नई पहल की गई है। इस योजना के अन्तर्गत बालिकाओं एवं महिलाओं को सामाजिक सुरक्षा के साथ-साथ विकास के नये अवसर प्रदान किये जायेंगे। प्रदेश के मुख्यमन्त्री द्वारा लखनऊ में 25 अक्टूबर को योजना का शुभारम्भ किया जायेगा, जिसका प्रदेश के सभी जनपद व ब्लाक मुख्यालयों में सजीव प्रसारण दिखाया जायेगा।
जिलाधिकरी डा0 नितिन बंसल ने बताया कि महिला सशक्तिकरण वर्तमान सरकार की प्रतिबद्वता हैं। महिला सशक्तिकरण के आवश्यक आधारभूत स्तम्भों स्वास्थ्य एवं शिक्षा को मजबूती प्रदान कर उनके भविष्य को उज्ज्वल बनाने के लिए ही प्रदेश सरकार द्वारा कन्या सुमंगला योजना के रूप में एक नई पहल की गई है, जिसके क्रियान्वयन से महिलाओं के सशक्तिकरण को भी बल मिलेगा।
उन्हांने योजना के उददेश्य एवं क्रियान्वयन की जानकारी देते हुए बताया कि जनपद गोण्डा में जनपद स्तरीय कार्यक्रम नगर के राजकीय बालिका इप्टर कालेज जीजीआईसी में आयोजित होगा तथा शासन के निर्देशानुसार जिले के सभी 16 ब्लाकों पर भी कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा, जहां पर ग्राम प्रधानों, आंगनबाड़ी कार्यकत्रियों, आशाओं सहित अन्य विभागों के अधिकारियों कर्मचारियों तथा जनसामान्य को लखनऊ में होने वाले मुख्यमंत्री के कार्यक्रम का सजीव प्रसारण दिखाया जाएगा। जिलाधिकारी ने बताया कि शासन की मन्शा है कि बालिकाओं एवं महिलाओं के स्वास्थ्य एवं शिक्षा को सुदृढ़ किया जाये, कन्या भ्रूण हत्या को समाप्त किया जाये, सामान लिंगानुपात स्थापित किया जाये, बाल विवाह की कुप्रथा को रोका जाये, नवजात कन्या के परिवार की आर्थिक सहायता प्रदान की जाये तथा बालिका के जन्म के प्रति जनमानस में सकारात्मक सोच विकसित कर उनके उज्ज्वल भविष्य की आधारशिला रखी जाये। उन्होने बताया कि बालिका के जन्म होने पर रू0 2000, बालिका के एक वर्ष तक के पूर्ण टीकाकरण के उपरान्त रू0 1000, कक्षा-01 में बालिका के प्रवेश के उपरान्त रू0 2000, कक्षा-06 में बालिका के प्रवेश के उपरान्त रू0 2000, कक्षा-09 में बालिका के प्रवेश उपरान्त रू0 3000 तथा ऐसी बालिकायें जिन्होंने कक्षा-12वीं उत्तीर्ण करके स्नातक अथवा 02 वर्षीय या अधिक अवधि के डिप्लोमा कोर्स में प्रवेश लिया हो, को रू0 5000 की सहायता प्रदान की जायेगी। पात्रता की जानकारी देते हुए उन्होंने बताया कि लाभार्थी का परिवार उत्तर प्रदेश का निवासी हो, परिवार की वार्षिक आय 03 लाख तक हो, परिवार की अधिकतम 02 ही बच्चियों को योजना का लाभ मिल सकेगा। किसी महिला को द्वितीय प्रसव से जुड़वा बच्चे होने पर तीसरी सन्तान के रूप में लड़की को भी इसका लाभ मिलेगा।
जिलाधिकारी ने जन सामान्य से अपील की है कि कन्या सुमंगला योजना हेतु पात्रों का ब्लाक, बी0आर0सी0 व न्याय पंचायत स्तर पर उपलब्ध आवेदन सुविधा का लाभ उठाते हुए अथवा वेबसाइट उोलण्नचण्हवअण्पद पर ऑनलाइन आवेदन कराकर महिलाओं एवं बालिकाओं के सशक्तिकरण अभियान में योगदान दें। अधिक जानकारी हेतु जिला प्रोबेशन कार्यालय में सम्पर्क किया जा सकता है।


Popular posts from this blog

स्वरोजगारपरक योजनाओं के अंतर्गत ऑनलाइन ऋण वितरण मेले का किया गया आयोजन

भारत विदेश नीति के कारण वैश्विक शक्ति बनेगा।

मंत्र की उपयोगिता जांचें साधना से पहले