गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज हुआ अमन गुलाटी का नाम

लखीमपुर खीरी।


वर्ल्ड रिकार्डर अमन गुलाटी द्वारा महात्मा गांधी की 150 वीं जयंती पर बनाई गई। अमन गुलाटी द्वारा राष्ट्रपिता की इस तस्वीर को गिनीज बुक में शामिल किया जाना तय किया गया। खीरी जिलेवासियों के लिए बड़े गर्व की बात है। लखीमपुर से गिनीज बुक रिकार्ड पाने वाले अमन गुलाटी पहले व्यक्ति है। यह बात जिलाधिकारी शैलेंद्र कुमार सिंह ने कलेक्ट्रेट सभागार में आयोजित प्रेसवार्ता के दौरान कही। उन्होंने बताया कि महात्मा गाधी की 150वीं जयंती पर वर्ल्ड रिकार्ड होल्डर अमन गुलाटी की बनाई गई राष्ट्रपिता की ड्राइंग को गिनीज बुक में विश्व की सबसे बड़ी ड्राइंग का दर्जा दिया गया है। इससे पहले यह रिकार्ड साइपर्स देश के आर्टिस्ट के नाम पर था।
राष्ट्रपिता की  ड्राइंग को वर्ल्ड रिकार्ड में शामिल करते हुए गिनीज बुक मे साइपर्स आर्टिस्ट की ड्राइंग को रिकार्ड से हटा दिया है। गिनीज बुक की साइट पर उसकी जगह अब अमन गुलाटी द्वारा बनाई गई ड्राइंग शुमार है। गिनीज बुक की ओर से अमन गुलाटी के लिए वर्ल्ड रिकार्ड का सर्टीफिकेट भी जारी किया गया है जिसका प्रतिरूप अमन को भेजा गया है। पुलिस अधीक्षया पूनम नें अमन को उपलब्धि के लिये शुभकामनायें दी। उन्होंने युवाओं को अमन गुलाटी से सीख लेकर अपने उज्जवल भविष्य के लिए हर दम प्रयासरत रहने की अपील की। उप जिलाधिकारी अरुण कुमार सिंह ने भी अमन को शुभकामनाएं दी। वहीं अमन गुलाटी ने बताया कि 2 अक्टूबर 2019 को उन्होंने आध प्रदेश के तिरुपति शहर में गाधी जी की विशाल ब्राइंग बनाई थी। कस्तूरबा गांधी कद ट्रस्ट ने इसको स्पाँसर किया था। दो अक्टूबर को ही ड्राइंग को वर्ल्ड रिकार्ड बनाने के लिए अमन गुलाटी ने सभी दस्तावेजों को गिनीज बुक मुख्यालय भेजा था। पूरी प्रक्रिया के बाद गिनीज बुक मैनेजमेंट ने अमन गुलाटी के नाम को गिनीज बुक में शामिल कर लिया है।


Popular posts from this blog

स्वरोजगारपरक योजनाओं के अंतर्गत ऑनलाइन ऋण वितरण मेले का किया गया आयोजन

भारत विदेश नीति के कारण वैश्विक शक्ति बनेगा।

बांसडीह में जाति प्रमाण पत्र बनाने को लेकर दर्जनों लोगों ने एसडीएम को सौपा ज्ञापन