विकास खण्ड स्तरीय किसान मेला एवं गोष्ठी का आयोजन

उन्नाव 


आज जीरो बजट कार्यशाला व कृषि सूचना तंत्र के सुदृढ़ीकरण एवं कृषक जागरूकता कार्यक्रम योजनान्तर्गत विकास खण्ड स्तरीय किसान मेला एवं गोष्ठी का आयोजन विकास खण्ड परिसर हिलौली में किया गया। मुख्य अतिथि श्री अनिल सिंह माननीय विधायक, पुरवा ने मेला का शुभारंभ किया।
माननीय विधायक ने कृषकों को सम्बोधित करते हुये कहा कि केन्द्र और प्रदेश सरकार किसानों के हित में कृषि विभाग एवं अन्य सम्बन्धित विभागों द्वारा योजनाओं का संचालन करा रही है, जिसका संचालन कृशि विभाग द्वारा काफी प्रभावी और सराहनीय तरीके से पारदर्शिता के साथ किया जा रहा है, उन्होंने कृषकांे से अपील की वह कृषि विभाग द्वारा संचालित विभिन्न योजनाओं का लाभ लेने के लिये कृषक पंजीकरण अनिवार्य रूप से करा लें। उप कृषि निदेशक ने खेती और खेती के साथ पशुपालन, बागवानी करके अपनी आमदनी दोगुनी करने के उपाय बताये। उन्होंने कहा कि किसान भाई उन्नत प्रजाति के बीज, बीज भण्डार से लेकर और गेंहॅू की लाइन से बोवाई करें, जिससे उन्हें 15 प्रतिशत बीज की बचत भी होगी और उत्पादन में 20 प्रतिशत तक की बढ़ोत्तरी होगी, उन्होंने कहा खेत को स्वस्थ्य रखने और उत्पादन क्षमता बनाये रखने के लिये यह आवश्यक है कि किसान भाई खेत में फसल अवशेष के ऊपर वेस्ट डिकम्पोजर कर छिड़काव करें और 5 कि0ग्रा0 यूरिया प्रति बीघा के हिसाब से फैलाकर तवे वाले हल से जुताई कर, खेत में मिला दें, जिससे खेत में कार्बनिक पदार्थो की मात्रा में वृद्धि होगी और किसान भाई को अच्छा उत्पादन प्राप्त होगा। उन्होंने यह भी कहा कि फसल अवषेश में आग लगाना दण्डनीय अपराध घोषित है, किसी भी दशा में फसल अवशेष में आग न जलायें।
आयोजन में डा0 नन्द किशोर, उप कृषि निदेशक, डा0 विजय यादव पशुचिकित्साधिकारी, डा0 रमेश चन्द्र मौर्या वैज्ञानिक, कृषि विज्ञान केन्द्र धौरा, एवं विभाग के विकास खण्ड स्तरीय समस्त कार्मिक उपस्थित रहें। मेले में भारी संख्या में किसान पुरूष एवं महिलायें उपस्थित रहें।
-


Popular posts from this blog

भारत विदेश नीति के कारण वैश्विक शक्ति बनेगा।

बांसडीह में जाति प्रमाण पत्र बनाने को लेकर दर्जनों लोगों ने एसडीएम को सौपा ज्ञापन

स्वरोजगारपरक योजनाओं के अंतर्गत ऑनलाइन ऋण वितरण मेले का किया गया आयोजन