4 दोषियों के खिलाफ डेथ वारंट पर फैसला 7 जनवरी को


राजधानी दिल्ली के निर्भया दुष्कर्म मामले में 4 दोषियों के खिलाफ डेथ वारंट पर पटियाला कोर्ट की सुनवाई 7 जनवरी तक के लिए टल गई। 7 जनवरी 2020 को अब मामले की सुनवाई होगी।
इससे पहले पटियाला हाउस कोर्ट में सुनवाई में जज ने कहा कि दोषियों के भी अधिकार होते हैं। अत: उन्हें 14 दिनों का वक्त दिया जा सकता है। जज ने कहा, मुकेश के लिए अदालत में कोई वकील पेश नहीं हुआ।


इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने निर्भया मामले में दोषी ठहराए गए अक्षय की पुनर्विचार याचिका इस आधार पर खारिज कर दी कि इस पर पुनर्विचार का कोई मतलब ही नहीं है।


शीर्ष अदालत ने बुधवार को कहा कि अक्षय को बचाव का पूरा मौका दिया गया था। अत: याचिका पर पुनर्विचार का कोई मतलब नहीं है। अदालत ने कहा कि इस मामले में जांच और ट्रायल पूरी तरह सही हुआ।


सुप्रीम कोर्ट में बचाव पक्ष के वकील ने बेतुकी दलील पेश करते हुए कहा कि अक्षय गरीब है इसलिए उसकी फांसी की जल्दी की जा रही है, जबकि दूसरे पक्ष ने कहा कि दोषी किसी भी तरह से सहानुभूति का अधिकारी नहीं है।


इससे पहले कोर्ट ने अक्षय के वकील एपी सिंह को दलीलें रखने के लिए 30 मिनट का समय दिया था। उल्लेखनीय है कि इस मामले में पवन, विनय, मुकेश और ‍अक्षय को अदालत ने फांसी की सजा सुनाई है।


Popular posts from this blog

भारत विदेश नीति के कारण वैश्विक शक्ति बनेगा।

बांसडीह में जाति प्रमाण पत्र बनाने को लेकर दर्जनों लोगों ने एसडीएम को सौपा ज्ञापन

स्वरोजगारपरक योजनाओं के अंतर्गत ऑनलाइन ऋण वितरण मेले का किया गया आयोजन