अन्तर्राष्ट्रीय पर्यावरण ओलम्पियाड सी.एम.एस. में 12 दिसम्बर से


लखनऊ।


सिटी मोन्टेसरी स्कूल, गोमती नगर (द्वितीय कैम्पस) द्वारा चार दिवसीय अन्तर्राष्ट्रीय पर्यावरण ओलम्पियाड (आई.ई.ओ.-2019) का आयोजन 12 से 15 दिसम्बर तक सी.एम.एस. कानपुर रोड आॅडिटोरियम में किया जा रहा है। इस अन्तर्राष्ट्रीय पर्यावरण ओलम्पियाड में प्रतिभाग हेतु नेपाल, बांग्लादेश एवं भारत के विभिन्न राज्यों से लगभग 500 छात्र लखनऊ पधार रहे हैं। यह जानकारी आज यहाँ आयोजित एक प्रेस कान्फ्रेन्स में अन्तर्राष्ट्रीय पर्यावरण ओलम्पियाड की संयोजिका एवं सी.एम.एस. गोमती नगर (द्वितीय कैम्पस) की वरिष्ठ प्रधानाचार्या सुश्री मंजीत बत्रा ने दी। सुश्री बत्रा ने बताया कि पर्यावरण पर आधारित यह अन्तर्राष्ट्रीय ओलम्पियाड पर्यावरणीय मुद्दों को मानवीय चेहरा देने का सतत् प्रयास है, जो छात्रों व युवा पीढ़ी को बदलते पर्यावरण की नवीनतम जानकारियों से अवगत कराने के साथ ही पर्यावरण संरक्षण हेतु जागरूकता को बढ़ाने एवं इस दिशा में सक्रिय भागीदारी निभाने हेतु प्रेरित करेगा। इसके साथ ही, यह ओलम्पियाड पर्यावरण के विभिन्न पहलुओं पर समाज के सभी वर्गो के नजरिये को सकारात्मक रूप से बदलने में मददगार साबित होगा।


प्रेस कान्फ्रेन्स में पत्रकारों को सम्बोधित करते हुए सुश्री बत्रा ने कहा कि ग्लोबल वार्मिंग एवं जलवायु परिवर्तन के इस नाजुक दौर में छात्रों व युवा पीढ़ी को पर्यावरण की चिन्तनीय स्थिति से रूबरू कराना आवश्यक है, जिससे किशोर व युवा पीढ़ी खासकर छात्र समुदाय पर्यावरणीय चुनौतियों को समझकर अपने नजरिये में सकारात्मक बदलाव लाएं। इन्हीं विचारों के अनुरूप इस पर्यावरण ओलम्पियाड का आयोजन किया जा रहा है जो निश्चित ही पर्यावरण संवर्धन की दिशा में मील का पत्थर साबित होगा।


आई.ई.ओ.-2019 की प्रतियोगिताओं की जानकारी देते हुए सह-संयोजिका एवं सी.एम.एस. गोमती नगर (द्वितीय कैम्पस) की प्रधानाचार्या श्रीमती संगीता बनर्जी ने बताया कि ओलम्पियाड के अन्तर्गत विभिन्न रोचक प्रतियोगिताएं आयोजित की जा रही हैं, जिनमें पोएट्री (स्वरचित कविता पाठ), डांसिग वाटर्स (कोरियोग्राफी), स्टिल वाटर्स (पेन्टिंग), इमैजिनियरिंग माई यूचर (रीडिजाइनिंग द ग्लोब), कलर्स आॅफ सिम्फनी (टी-शर्ट पेन्टिंग), लाज आॅफ नेचर (कोर्ट रूम ड्रामा), वण्डर्स आॅफ नेचर (इन्वार्यनमेन्ट क्विज), इफ विशेज हैड विंग्स (प्रोडक्ट रीडिजाइनिंग), विन्ड्स आॅफ चेन्ज (यूचर फ्रेण्डली स्कूल) एवं शटर एण्ड क्विल (फोटोग्राफी) आदि प्रमुख हैं। इन प्रतियोगिताओं में देश-विदेश के छात्र अपने ज्ञान-विज्ञान का प्रदर्शन करने के साथ ही एक-दूसरे की सभ्यता व संस्कृति से भी परिचित हो सकेंगे। इस प्रकार यह ओलम्पियाड विभिन्न देशों की सभ्यताओं, संस्कृतियों व विचारों का संगम सिद्ध होगा।


प्रेस कान्फ्रेन्स में बोलते हुए सी.एम.एस. संस्थापक व प्रख्यात शिक्षाविद् डा. जगदीश गाँधी ने कहा कि प्रकृति प्रदत्त इस धरती पर सुख, शान्ति, एकता व खुशहाली से जीवन बिताने हेतु जरूरी है कि हमारी प्यारी धरती भी हरी-भरी रहे, हमारा वायुमण्डल स्वच्छ रहे। उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि यह ओलम्पियाड किशोर एवं युवा पीढ़ी को पर्यावरण के प्रति उनके दायित्वों से अवगत कराने में महत्वपूर्ण भूमिका निभायेगा।


सी.एम.एस. के मुख्य जन-सम्पर्क अधिकारी श्री हरि ओम शर्मा ने कहा कि इस अन्तर्राष्ट्रीय पर्यावरण ओलम्पियाड का उद्घाटन 12 दिसम्बर को सायं 5.00 बजे सी.एम.एस. गोमती नगर (द्वितीय कैम्पस) आॅडिटोरियम में होगा। श्री आर. रमेश कुमार, आई.ए.एस., सेक्रेटरी, उच्च एवं माध्यमिक शिक्षा, उ.प्र., इस अवसर पर मुख्य अतिथि होंगे। श्री शर्मा ने बताया कि आई.ई.ओ.-2019 की समस्त प्रतियोगिताएं सी.एम.एस. कानपुर रोड आॅडिटोरियम में आयोजित की जायेंगी। इस अन्तर्राष्ट्रीय पर्यावरण ओलम्पियाड में देश-विदेश की लगभग 50 छात्र टीमें प्रतिभाग कर रही हैं।


 


Popular posts from this blog

स्वरोजगारपरक योजनाओं के अंतर्गत ऑनलाइन ऋण वितरण मेले का किया गया आयोजन

भारत विदेश नीति के कारण वैश्विक शक्ति बनेगा।

मंत्र की उपयोगिता जांचें साधना से पहले