डी.एन.ए. परीक्षण के उपकरणों के क्रय के सम्बन्ध मे अपर मुख्य सचिव गृह ने की बैठक

अपर मुख्य सचिव, गृह ने एक्सपर्टों  के साथ डी.एन.ए. परीक्षण उपकरणों के क्रय के सम्बन्ध में किया विचार-विमर्श


जेम पोर्टल के माध्यम से डीएनए परीक्षण के उपकरणों को अधिक से अधिक क्रय किये जाने पर दिया गया जोर


प्रदेश के 18 मंडलों में से 04 विधि विज्ञान प्रयोगशाला क्रियाशील, 08 विधि विज्ञान प्रयोगशाला में निर्माण कार्य जारी तथा 06 विधि विज्ञान प्रयोगशाला में निर्माण कार्य की कार्यवाही होगी शीघ्र - अपर मुख्य सचिव, गृह


पुलिस, न्यायपालिका व अन्य सरकारी विभाग और उपक्रमों द्वारा इंगित अपराध संबंधी साक्ष्यों की जांच में डी.एन.ए. टेस्ट बहुत महत्वपूर्ण –श्री अवनीश कुमार अवस्थी


लखनऊ


अपर मुख्य सचिव, गृह श्री अवनीश कुमार अवस्थी ने आज लोकभवन स्थित अपने सभागार कक्ष में विधि विज्ञान प्रयोगशाला में डी.एन.ए. परीक्षण के उपकरणों के क्रय के सम्बन्ध में एक्सपर्टों के साथ बैठक की। श्री अवस्थी ने डी.एन.ए. परीक्षण के उपकरणों की सप्लाई के सम्बन्ध में एक्सपर्टों से विस्तार से विचार-विमर्श किया। उन्होंने एक्सपर्टों से डी.एन.ए. परीक्षण के उपकरणों को कहां से क्रय किया जा सकता है इसकी जानकारी ली। श्री अवस्थी ने बैठक में इस बात पर जोर दिया कि डी.एन.ए. परीक्षण के उपकरणों को विक्रय करने वाली संस्थाओं से सम्पर्क करते हुए उन संस्थाओं से डी.एन.ए. परीक्षण के उपकरणों को जेम पोर्टल के माध्यम से क्रय किया जाय।


बैठक में अवगत कराया गया कि प्रदेश के 18 मंडलों में से 04 विधि विज्ञान प्रयोगशाला क्रियाशील है, 08 विधि विज्ञान प्रयोगशाला में निर्माण कार्य जारी है तथा 06 विधि विज्ञान प्रयोगशाला में निर्माण कार्य की कार्यवाही की जानी है। श्री अवस्थी ने विधि विज्ञान प्रयोगशाला के अधिकारियों को निर्देशित किया कि प्रयोगशाला में डी.एन.ए. परीक्षण के उपकरणों को क्रय किये जाने में पूरी सावधानी बरती जाय तथा इसमें किसी भी प्रकार की शिथिलता किसी स्तर पर न बरती जाय। उन्होंने कहा कि पुलिस, न्यायपालिका व अन्य सरकारी विभाग और उपक्रमों द्वारा इंगित अपराध संबंधी साक्ष्यों की जांच में डी.एन.ए. परीक्षण बहुत महत्वपूर्ण होता है। विवेचना अधिकारी को अपराध विवेचना में वैज्ञानिक सहायता में सहयोग किया जाता है। इसके साथ ही अपराध स्थल से वैज्ञानिक साक्ष्य एकत्र करने में मदद मिलती है।


बैठक में अपर पुलिस महानिदेशक लाजिस्टिक श्री विजय कुमार मौर्य, अपर पुलिस महानिदेशक तकनीकी सेवाएं श्री असीम अरूण, सचिव गृह श्री भगवान स्वरूप, विशेष सचिव गृह श्री अविनाश सिंह, निदेशक, विधि विज्ञान प्रयोगशाला, डॉ. अर्चना त्रिपाठी सहित विधि विज्ञान प्रयोगशाला, चंड़ीगढ़ के एक्सपर्ट डॉ. हक, जैम तथा थर्मोफिशर के प्रतिनिधि सहित अन्य सम्बन्धित अधिकारीगण उपस्थित रहें।


Popular posts from this blog

स्वरोजगारपरक योजनाओं के अंतर्गत ऑनलाइन ऋण वितरण मेले का किया गया आयोजन

भारत विदेश नीति के कारण वैश्विक शक्ति बनेगा।

बांसडीह में जाति प्रमाण पत्र बनाने को लेकर दर्जनों लोगों ने एसडीएम को सौपा ज्ञापन