लिपस्टिक लगाते समय इन गलतियों के कारण दिखने लगेंगी आप बूढ़ी


आप चाहे हैवी मेकअप करें या लाइट, उसमें लिपस्टिक को तो जरूर शामिल किया जाता है। इतना ही नहीं, कुछ महिलाएं तो घर से बाहर निकलते समय सिर्फ लिपस्टिक लगाती हैं और इससे उनका पूरा लुक ही बदल जाता है। लेकिन क्या आप जानती हैं कि सिर्फ लिपस्टिक को लिप्स पर अप्लाई कर लेना ही काफी नहीं है। अगर आप इसे सही तरह से नहीं लगातीं तो इससे आपकी उम्र अधिक नजर आने लगती है। इतना ही नहीं, लिपस्टिक अप्लाई करने के बाद भी आपको वह लुक नहीं मिलता, जो वास्तव में मिलना चाहिए। तो चलिए आज हम आपको लिपस्टिक लगाने के दौरान की जाने वाली कुछ गलतियों के बारे में बता रहे हैं−


लिप्स को रेडी न करना
अमूमन महिलाएं सीधे ही लिप्स पर लिपस्टिक अप्लाई करती हैं। आपको शायद पता न हो लेकिन यह तरीका बिल्कुल गलत है। खासतौर से, ठंड के मौसम में जब होंठ डाई व पपड़ीदार हो जाते हैं, तब अगर लिपस्टिक लगाई जाए तो यह काफी अनाकर्षक लगती है। इसलिए अगर आपके होंठ रूखे हैं तो लिपस्टिक अप्लाई करने से पहले लिप्स को एक्सफोलिएट करें। स्क्रबिंग के जरिए होंठों की डेड स्किन सेल्स को आसानी से बाहर निकाला जा सकता है। इससे आपके होंठ नेचुरली ब्यूटीफुल लगते हैं और फिर लिपस्टिक भी खूबसूरत लगती है।


सही लिपस्टिक का चयन
लिपस्टिक को चुनते समय सिर्फ उसे कलर पर ही फोकस नहीं करना चाहिए। अमूमन महिलाएं लॉन्ग लास्टिंग लिपस्टिक अप्लाई करना पसंद करती हैं, लेकिन इस तरह की लिपस्टिक आपके होंठों को रूखा बनाती है, जिससे आपकी उम्र अधिक नजर आती है। इसलिए कोशिश करें कि आप ऐसी लिपस्टिक का चयन करें, जिसकी क्रीम फिनिश हो। हो सकता है कि इस लिपस्टिक को अप्लाई करने के बाद आपको टचअप की जरूरत पड़े, लेकिन इससे आपको सुपर फ्रेश और यूथफुल लुक मिलेगा।
ब्राइट लिप कलर
ब्राइट व बोल्ड लिप कलर देखने में काफी अच्छा लगता है, लेकिन अगर आपकी उम्र अधिक है तो आपको लिपस्टिक कलर्स का चयन भी थोड़ा स्मार्टली करना चाहिए। दरअसल, जैसे−जैसे आपकी उम्र बढ़ती है, आपके लिप्स पतले होते चले जाते हैं और बेहद ब्राइट या डार्क कलर अप्लाई करना ऐसे में अच्छा नहीं माना जाता। इस उम्र में लाइटर व नेचुरल लुकिंग कलर्स जैसे कोरल, न्यूड्स और पिंक आदि को चुना जा सकता है। यह आपके लिप्स को फुलर व यंगर दिखाएंगे।


Popular posts from this blog

स्वरोजगारपरक योजनाओं के अंतर्गत ऑनलाइन ऋण वितरण मेले का किया गया आयोजन

मंत्र की उपयोगिता जांचें साधना से पहले

’’पवन गुरू, पानी पिता, माता धरति महत’’ को अपने जीवन का अंग बनायें : स्वामी चिदानन्द सरस्वती