‘‘नीली क्रांति‘‘ योजनान्तर्गत इच्छुक लाभार्थियों से आवेदन पत्र आमंत्रित

उन्नाव 


जिलाधिकारी श्री देवेन्द्र कुमार पाण्डेय के निर्देशन में केंद्रीय सेक्टर की योजना ''नीली क्रांति'' मत्स्यकी का एकीकृत विकास एवं प्रबंधन के तहत जनपद उन्नाव में वर्ष 2019-20 में अवशेष महिला निवेश निर्धारित लक्ष्य व वर्ष 2018-19 के लाभार्थी परिवर्तन के सापेक्ष इच्छुक लाभार्थियों से आवेदन पत्र आमंत्रित किए गए हैं। इसका उद्देश्य मत्स्य पालकों को बढ़ावा देना है।
मुख्य कार्यकारी अधिकारी, मत्स्य पालक विकास अभिकरण उन्नाव, श्री ओ0एन0 भारतीय ने बताया कि तालाबों में निवेश करने के लिये कुल 0.80 (हे0में) लक्ष्य केवल महिला वर्ग हेतु 60 प्रतिशत शासकीय अंश, तालाब निर्माण (निजी) 0.75 (हे0में)  लक्ष्य सामान्य वर्ग हेतु 40 प्रतिशत शासकीय अंश, मोटरसाइकिल विद आइस बॉक्स 05(सं) सामान्य वर्ग हेतु 40 प्रतिशत शासकीय अंश है। उन्होंने चयन प्रक्रिया के बारे में बताते हुए कहा कि लाभार्थी की रुचि एवं उस कार्य में अनुमति को प्राथमिकता दी जाएगी। भारत सरकार के नीलीक्रांति हेतु प्रसारित दिशा-निर्देश के अनुसार परियोजना हेतु न्यूनतम व अधिकतम क्षेत्रफल का चयन के संबंध में विशेष रूप से ध्यान रखा जाएगा। कार्य से पूर्व स्थल की फोटोग्राफी व वीडियोग्राफी कराकर चयन समिति के समक्ष रखे जाएंगे। लाभार्थी के तालाब/भूमि के अभिलेखों को परियोजना के अनुसार चयन हेतु लिया जाना अनिवार्य है तथा किसी प्रकार की भू-विधिक अड़चनों की अर्ह नहीं माना जाएगा। लाभार्थी को तालाब निर्माण व खुदाई हेतु कम से कम 1.50 मी0 जलस्तर बनाए रखने, मत्स्य पालन/ मत्स्य बीज उत्पादन/ मत्स्य पूरक आहार उत्पादन आदि कार्यों को करने, लाभार्थी अंश धनराशि के व्यय एवं सहायतित धनराशि के सदुपयोग के संबंध में शपथ-पत्र देना अनिवार्य होगा। अधिकतम वित्तीय सहायता लाभार्थी को परियोजना में निर्धारित वित्तपोषण के अनुसार दिया जाएगा, लाभार्थी को परियोजना से संबंधित प्रशिक्षण कार्यक्रम में प्रतिभाग करना होगा। उन्होंने बताया कि लाभार्थी कार्यालय में उपस्थित होकर आवेदन पत्र उपलब्ध कराएं और अन्य विस्तृत जानकारी मुख्य कार्यकारी अधिकारी, मत्स्य पालक विकास अभिकरण के कार्यालय से किसी भी कार्य दिवस में प्राप्त की जा सकती है।


Popular posts from this blog

स्वरोजगारपरक योजनाओं के अंतर्गत ऑनलाइन ऋण वितरण मेले का किया गया आयोजन

मंत्र की उपयोगिता जांचें साधना से पहले

’’पवन गुरू, पानी पिता, माता धरति महत’’ को अपने जीवन का अंग बनायें : स्वामी चिदानन्द सरस्वती