निगोहा में निकली राम बरात में दिखी गंगा जमुनी तहज़ीब

जगह-जगह पूजे गए राम,जयश्रीराम के नारों से गूंज उठा निगोहा


निगोहां लखनऊ


शनिवार निगोहां गांव में स्थित प्राचीन संकट मोचन हनुमान मंदिर से निगोहां कस्बे में हांथी, घोडा पालकी ऊंट, व बाइक, कारो के साथ रामबारात निकाली गयी। जिसमे हिन्दू समुदाय के साथ-साथ मुस्लिम समुदाय के लोग भी शामिल हुए। जहां एक बार फिर हिन्दू- मुस्लिम एकता की मिशाल कायम हुई बरात में हजारो की संख्या में इलाकाई लोग मौजूद रहे। 


मेला प्रबन्धक लक्ष्मीकांत तिवारी व संरक्षक श्री कान्त तिवारी ने बताया कि प्रति वर्ष की भांति इस वर्ष भी संकट मोचन हनुमान मंदिर पर दो दिनों तक मेला लगा, जिसमे रामलीला व राम बरात का आयोजन किया गया। पहले दिन शुक्रवार को धनुष यज्ञ,सीता स्वयंबर का कार्यक्रम सम्पन्न हुआ व शनिवार को भगवान श्री राम की बरात निकाली गयी और जगह जगह बरात की अगवानी व जलपान की व्यवस्था भी की गयी। बारात में हाथी घोड़ा पालकी बाइक कार सहित हजारों की संख्या में हिंदुओं के साथ साथ मुस्लिम समुदाय के लोग ने भी शामिल होकर गंगा जमुनी तहज़ीब की मिसाल पेश की, मेला प्रबन्धक ने बताया कि यह मेला लगभग 200 वर्षों से चला आ रहा है। लक्ष्मीकांत तिवारी ने पत्नी शकुंतला देवी तिवारी सहित हनुमान मन्दिर पर राम बरात की आगवानी की। वही कस्बे में रामप्रसाद साहू ने रामबारात का स्वागत किया व ग्राम प्रधान भगवान पुर अंकुर मिश्रा ने भव्व आतिशबाजी के साथ रामबारात का स्वगत किया सपा नेता राहुल गुप्ता ने भी राम बरात  का स्वागत किया है जिसके बाद निगोहां में सुरेन्द्र दीक्षित, जावेंद्र तिवारी,अजीत सिंह, अजय सिंह सहित निगोहां पर सब इंस्पेक्टर टी एन पाण्डेय, सुनील व नदीम अहमद व मुस्लिम समुदाय के लोगो  ने भी फूल माला पहनाकर व जलपान करवा कर अगवानी की।जिसमें मो. खलील दाउदी, लाला डी जे, अनीश,एजाज, अकील, हफीज, सब्बीर समेत सैकड़ो की संख्या में मुस्लिम समुदाय के लोग शामिल हुए। इसके अलावा  शांति प्रकाश मिश्र, राजीव शुक्ल, विश्वम्भर मिश्र, विमलेश त्रिवेदी, मुकेश मिश्र, अनुज त्रिवेदी, सन्तोष त्रिवेदी, विजय अवस्थी अभय दीक्षित मायाराम त्रिपाठी, सहित हजारों लोग शामिल हुए।


Popular posts from this blog

स्वरोजगारपरक योजनाओं के अंतर्गत ऑनलाइन ऋण वितरण मेले का किया गया आयोजन

मंत्र की उपयोगिता जांचें साधना से पहले

’’पवन गुरू, पानी पिता, माता धरति महत’’ को अपने जीवन का अंग बनायें : स्वामी चिदानन्द सरस्वती