टमाटर का सूप पीना है पसंद, तो जान लीजिए इसे बनाने का तरीका


सूप को सेहत के लिए काफी हेल्दी माना जाता है और इसलिए लोग तरह−तरह के सूप बनाकर पीते हैं। आप भी कभी पालक का तो कभी कॉर्न का सूप बनाते होंगे, लेकिन एक सूप ऐसा भी है, जो बच्चों से लेकर बड़ों तक हर किसी को काफी पसंद आता है। यह सूप है टमाटर का सूप। घर में इसे बनाना जितना आसान है, यह पीने में उतना स्वादिष्ट होता है। वैसे भी ठंड का मौसम हो और सूप पीने को मिल जाए तो सारी ठंड छूमंतर हो जाती है। अगर आपको भी टमाटर का सूप पीना पसंद है, लेकिन आप रेस्टोरेंट जैसा सूप घर पर नहीं बना पाते हैं, तो आज हम आपको इसे बनाने का आसान तरीका बता रहे हैं। अगर आप ऐसे टमाटर सूप बनाएंगे तो आपको सूप बाजार से भी ज्यादा टेस्टी लगेगा। तो चलिए शुरू करते हैं इसे बनाना−


सामग्री−
एक किलो टमाटर
एक प्याज
थोड़ा सा लहसुन
अदरक
एक−दो चुकंदर
आंवला
गाजर
एक आलू
नींबू का रस
नमक
चीनी
काली मिर्च
बटर
तेजपत्ता
विधि−
सबसे पहले टमाटर को मोटा−मोटा काट लें। बाकी सभी सब्जियों को भी रफ कर लें। अब एक कूकर में मक्खन डालकर गर्म करें। अब इसमें तेजपत्ता, अदरक, प्याज, लहसुन, गाजर थोड़ी देर के लिए भुन लें। अब इसमें कटे हुए आलू, चुकंदर व आंवला डालकर एक−दो मिनट के लिए भूनें। अब इसमें टमाटर और नमक डालें और मीडियम फ्लेम पर कम से कम पांच मिनट के लिए भून लें। अब इसमें आधा लीटर पानी डालें और ढक्कन लगाकर पांच से छह सीटी लगने दें। अब गैस बंद करें और प्रेशर को खुद निकलने दें। अब इसे थोड़ा ठंडा होने दें।
जब मिश्रण ठंडा हो जाए तो आप इसे मिक्सी में पीस लें। अब इसे छानकर फिर से कूकर में डालें और कुछ देर के लिए उबालें। साथ ही इसमें काली मिर्च पाउडर, चीनी और नींबू का रस डालकर उबलने दें। 
कुछ देर में आपका टोमेटो सूप बनकर तैयार हो जाएगा। बस इसे बाउल में निकालें और गरमा−गरम सर्व करें।
नोटः चूंकि सर्दियां हैं और हमने इस सूप को और भी हेल्दी बनाने के लिए इसमें गाजर, चुकंदर व आंवले का इस्तेमाल किया है। अगर आप चाहें तो सिर्फ टमाटर की मदद से भी सूप तैयार कर सकते हैं। लेकिन इन सब्जियों का इस्तेमाल करने से सूप ज्यादा हेल्दी बनता है और टेस्टी भी।


Popular posts from this blog

स्वरोजगारपरक योजनाओं के अंतर्गत ऑनलाइन ऋण वितरण मेले का किया गया आयोजन

मंत्र की उपयोगिता जांचें साधना से पहले

’’पवन गुरू, पानी पिता, माता धरति महत’’ को अपने जीवन का अंग बनायें : स्वामी चिदानन्द सरस्वती