टीवी स्क्रीन को साफ करते समय ना करें यह छोटी−छोटी गलतियां


टीवी के सामने बैठकर हम सभी अपने फेवरिट सीरियल व मूवी आदि देखते हैं, लेकिन जरा सोचिए कि आप टीवी खोले और आपको स्क्रीन गंदी नजर आए या फिर स्क्रीन के उपर उंगलियों के निशान हों तो यकीनन आपको स्क्रीन पर उतनी क्लीयरिटी नजर नहीं आएगी और फिर अपना फेवरिट सीरियल देखने का भी वह मजा नहीं आएगा, जो वास्तव में आना चाहिए। तो चलिए आज हम आपको टीवी स्क्रीन को साफ करने का आसान तरीका बता रहे हैं−


एलईडी व एलसीडी टीवी
एलईडी व एलसीडी टीवी काफी डेलिकेट होते हैं और उन्हें सामान्य तौर पर गीला करके क्लीन करना उचित नहीं माना जाता। इसके लिए सबसे पहले आप उसकी डस्ट साफ करें और इसके लिए माइक्रोफाइबर युक्त सूखे कपड़े का इस्तेमाल करें। इसके बाद अगर आपको स्क्रीन पर किसी तरह के निशान या धब्बे नजर आ रहे हैं तो उसके लिए आप वाइप्स का सहारा ले सकते हैं। आजकल इलेक्टानिक सामान के लिए वाइप्स अलग से मिलते हैं, आप उसका इस्तेमाल करें। इसके अलावा टीवी के बटन व पिछले हिस्से को क्लीन करने के लिए माइक्रोफाइबर कपड़े का इस्तेमाल करना अच्छा रहेगा। आप प्लाज्मा स्क्रीन को भी एलईडी टीवी की तरह ही आसानी से क्लीन कर सकते हैं।
ट्यूब टेलीविजन
इस तरह से टीवी पुराने समय में काफी चलन में थे, लेकिन आज भी लोग इनका इस्तेमाल करते हैं। अगर आपके पास ट्यूब टेलीविजन है तो आप इसे बेहद आसानी से साफ कर सकते हैं। यह बिल्कुल उसी तरह साफ किया जाता है, जिस तरह आप अपने घर का शीशा क्लीन करते हैं। इसके लिए आप माइक्रोफाइबर क्लीनिंग क्लॉथ को हल्का गीला करके उससे टीवी स्क्रीन को साफ करें या फिर आप विंडो क्लीनिंग स्प्रे की मदद से भी भी ट्यूब टीवी को क्लीन कर सकते हैं।
छोटी−छोटी बातें
अगर आप चाहते हैं कि आपका टीवी हमेशा चमकता रहे तो आप सप्ताह में कम से कम एक बार टीवी स्क्रीन को माइक्रोफाइबर कपड़े की मदद से साफ करें।
कभी भी टीवी स्क्रीन पर सीधे कुछ भी स्प्रे न करें, भले ही वह ट्यूब टीवी क्यों न हो। जरूरत से ज्यादा स्प्रे आपके टीवी के कैबिनेट को नुकसान पहुंचा सकते हैं, यहां तक कि टीवी सेट को डैमेज कर सकते हैं।
अपनी टीवी स्क्रीन पर ऐसे प्रॉडक्ट का इस्तेमाल न करें, जिसमें अमोनिया, एल्कोहॉल व एसीटोन का इस्तेमाल किया गया हो।


Popular posts from this blog

स्वरोजगारपरक योजनाओं के अंतर्गत ऑनलाइन ऋण वितरण मेले का किया गया आयोजन

मंत्र की उपयोगिता जांचें साधना से पहले

’’पवन गुरू, पानी पिता, माता धरति महत’’ को अपने जीवन का अंग बनायें : स्वामी चिदानन्द सरस्वती